India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

'दानव' बना ये नया ब्लैक होल, हर सेकेंड निगल रहा पृथ्‍वी जितना ग्रह

|
Google Oneindia News

बेंगलुरू, 16 जून: हमारी धरती ही नहीं पूरा ब्रह्मांडअजूबों और रहस्‍यों से भरा हुआ है। वैज्ञानिक 24 घंटे उस पर नजर गड़ाए बैठे रहते हैं। अब खगोलविदों ने सबसे तेजी से बढ़ने वाले ब्लैक होल की खोज की है। ये ब्लैक होल इतना विशालकाय है कि हर सेकेंन्‍ड में हमारी पृथ्‍वी जितने बड़े ग्रहों को दैत्‍य बनकर निगलता जा रहा है। इतना ही नहीं ये नया ब्लैक होल हमारी आकाशगंगा की संपूर्ण रोशनी से हजार गुना अधिक चमक रहा है।

यह ब्लैक होल इतनी तेजी से बढ़ रहा है कि...

यह ब्लैक होल इतनी तेजी से बढ़ रहा है कि...

ये एक अभूतपूर्व खोज क्या हो सकती है क्‍योंकि खगोलविदों ने पहली बार पिछले नौ अरब वर्षों में सबसे तेजी से बढ़ते ब्लैक होल का पता लगाया है। यह ब्लैक होल इतनी तेजी से बढ़ रहा है कि यह हर सेकेंड में एक पृथ्वी जितना बढ़ रहा है। यह इतना बड़ा है कि हमारे सौर मंडल के सभी ग्रहों की कक्षाएं इसके घटना क्षितिज के भीतर फिट हो जाएंगी।

खगोलविदों ने जानिए किससे की तुलना

खगोलविदों ने जानिए किससे की तुलना

ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी (एएनयू) के खगोलविदों ने इसे सूखी घास में एक बड़ी सी सुई जितना नजर आता है। ब्रह्मंड में ये खलनायक वस्तु हमारी अपनी आकाशगंगा से सभी प्रकाश की तुलना में 7,000 गुना तेज चमकती है कि ये सामान्‍य अंतरिख वैज्ञानिकों को भी नजर आने लगा है। इस दैत्‍य समान ब्लैक होल का द्रव्यमान सूर्य से 3 अरब गुना अधिक है।

ये है दुनिया का सबसे गर्म शहर, जहां गर्भवती महिलाओं की हालत हुई खराब, जानें खास वजहये है दुनिया का सबसे गर्म शहर, जहां गर्भवती महिलाओं की हालत हुई खराब, जानें खास वजह

पास आने वाली चीजों को निगल ऐसे ही निगल रहा

पास आने वाली चीजों को निगल ऐसे ही निगल रहा

प्रमुख शोधकर्ता डॉ. क्रिस्टोफर ओन्केन ने कहा "खगोलविद 50 से अधिक वर्षों से अपने पास आने वाली चीजों को निगल ऐसे ही निगल रहा है उन्होंने हजारों ऐसी खोज की है, लेकिन यह आश्चर्यजनक रूप से रोशनी पर किसी का ध्यान नहीं गया। उन्होंने कहा कि वे अब जानना चाहते हैं कि यह अलग क्यों है - क्या कुछ भयावह हुआ?

 इसलिए लोग ब्लैक होल नहीं देख सकते

इसलिए लोग ब्लैक होल नहीं देख सकते

शोधकर्ताओं का अनुमान है कि इसके विशाल आकार के पीछे कारणों में से एक यह हो सकता है कि दो बड़ी आकाशगंगाएं एक-दूसरे से टकरा गईं, ब्लैक होल को खिलाने के लिए बहुत सारी सामग्री मिल गई हो। इतने उच्च गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र वाले तारे की मृत्यु से एक ब्लैक होल का निर्माण होता है, जो मृत तारे के प्रकाश को फंसाते हुए उसके नीचे की छोटी सी जगह में समा जाता है। पदार्थ के एक छोटे से स्थान में निचोड़े जाने के कारण गुरुत्वाकर्षण इतना मजबूत होता है। चूंकि कोई प्रकाश नहीं निकल सकता, इसलिए लोग ब्लैक होल नहीं देख सकते। वे अदृश्य हैं।

Comments
English summary
Scientists discovered this new black hole, becoming a giant, eating a planet as much as the Earth every second
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X