• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

तीन तलाक़ बिल पर क्यों खफ़ा हैं राजनीतिक दल?

By Bbc Hindi
मुस्लिम महिला
Getty Images
मुस्लिम महिला

केंद्र सरकार तीन तलाक़ को अपराध घोषित करने संबंधी बिल गुरुवार को संसद में पेश कर रही है. इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक़ की प्रथा को असंवैधानिक क़रार दिया था.

सत्तारूढ़ दल भाजपा का कहना है कि इस बिल के ज़रिए मुस्लिम महिलाओं का सशक्तिकरण होगा. सरकार ने मुताबिक़, तीन तलाक़ का मुद्दा लिंग न्याय, लिंग समानता और महिला की प्रतिष्ठा, मानवीय धारणा से उठाया हुआ मुद्दा है.

वहीं दूसरी तरफ मुस्लिम लॉ बोर्ड सहित कई राजनीतिक दलों ने इस बिल पर अपना विरोध भी दर्ज करवाया है.

कांग्रेस का विरोध

मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस का कहना है कि वह अन्य दलों के साथ मिलकर एक बार फिर से इस बिल के मसौदे को देखना चाहती है. कांग्रेस प्रवक्ता और सांसद अभिषेक मनु सिंघवी का कहना है कि वे तीन तलाक़ को अपराध साबित करने वाले इस बिल पर पूरी तरह सहमत नहीं हैं.

उन्होंने कहा, ''हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का सम्मान करते हैं, लेकिन यह देखना होगा कि सरकार सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के आधार पर ही इस बिल को पेश करे. यदि ऐसा नहीं होता है तो हम इस बिल का विरोध करेंगे.''

तीन तलाक़- जो बातें आपको शायद पता न हों

'मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तीन तलाक़ पर लीपापोती कर रहा है'

तीन तलाक़
AFP
तीन तलाक़

सीपीएम का तर्क

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के लोक सभा सांसद मोहम्मद सलीम ने कहा है कि जब सुप्रीम कोर्ट पहले ही तीन तलाक़ पर प्रतिबंध लगा चुकी है तो इस पर अलग से क़ानून लाने की ज़रूरत नहीं है.

उन्होंने कहा, ''जहां तक तीन तलाक़ पर रोक की बात है तो हम इस प्रथा का बहुत पहले से विरोध करते आए हैं, लेकिन हमारा मानना है कि तलाक़ को आपराधिक श्रेणी में नहीं डालना चाहिए.''

उन्होंने कहा कि बिल को संसद की किसी सर्वदलीय समिति में भेजा जाना चाहिए जहां इसके सभी पहलुओं पर विस्तार से चर्चा होनी चाहिए.

उन्होंने इस बिल को भाजपा की मनमानी भी बताया.

तीन तलाक़ द्रौपदी के चीरहरण जैसा: योगी

तीन तलाक़
Getty Images
तीन तलाक़

ममता बनर्जी की नाराज़गी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने भी तीन तलाक़ पर प्रस्तावित बिल का विरोध किया है.

ममता बनर्जी का कहना है कि उन्हें और उनकी पार्टी से इस बिल का मसौदा तैयार करने से पहले कोई सलाह मशविरा नहीं किया गया.

ममता बनर्जी ने बिल पर अपनी सहमति जताने से पहले उसके मसौदे को देखने की बात कही है. लोक सभा में तृणमूल कांग्रेस चौथी सबसे बड़ी पार्टी है.

वहीं पश्चिम बंगाल में एक तिहाई जनसंख्या मुस्लिम है तीन तलाक़ बिल का असर इस राज्य पर प्रमुख रूप से पड़ने के आसार हैं.

तीन तलाक़: फ़ैसला जो भी हो, नज़ीर कायम होगी

तीन तलाक़
Getty Images
तीन तलाक़

हक़ के ख़िलाफ़ है बिल

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) समेत तमाम मुस्लिम संगठन तीन तलाक़ पर आधारित बिल का विरोध कर रहे हैं.

एआईएमपीएलबी का कहना है कि यह बिल मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का हनन करता है. बोर्ड के चेयरमैन मौलाना रबे हसनी नदवी इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखेंगे और प्रस्तावित बिल को वापिस लेने की मांग रखेंगे.

एआईएमपीएलबी के प्रवक्ता मौना ख़लिलुर रहमान सज्जाद नोमानी ने कहा, ''तीन तलाक़ बिल संविधान के ख़िलाफ़ है साथ ही यह शरिया और महिलाओं के अधिकारों के भी ख़िलाफ़ है.''

उन्होंने कहा, ''हम सरकार से कहेंगे कि वे संसद में इस बिल को पेश न करें, अगर सरकार को लगता है कि यह बिल बेहद ज़रूरी है तो इसे पेश करने से पहले मुस्लिम लॉ बोर्ड और मुस्लिम महिला संगठनों को भी दिखाए.''

सोशल : तीन तलाक़ पर पाकिस्तानियों की राय

मुस्लिम महिलाएं
Getty Images
मुस्लिम महिलाएं

'कुरान आधारित मुस्लिम फैमिली क़ानून हो'

बिल के मौजूदा स्वरूप को लेकर कुछ मुस्लिम महिला संगठनों को एतराज़ है. मुंबई की मुस्लिम महिला संगठन 'बेबाक़ कलेक्टिव' के मुताबिक आने वाला बिल, महिलाओं को उनके अधिकार दिलाने की जगह और कमज़ोर बनाने वाला है.

मुस्लिम महिला संगठन भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन की इस बिल पर अलग राय है और उन्होंने इसका स्वागत किया है.

भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन अध्यक्ष जाकिया सोमन नए बिल का स्वागत करती हैं. पर साथ में वो कुछ और भी चाहती हैं.

उनके मुताबिक, "हमारी मांग है कि कुरान आधारित मुस्लिम फैमिली क़ानून होना चाहिए. हम सरकार के नए क़ानून का स्वागत करते हैं. लेकिन तीन तलाक़ के लिए ये ज़रूरी है कि पति और पत्नी दोनों को इसका हक हो, 90 दिन का वक्त दिया जाए. साथ ही हलाला और बहुविवाह पर भी क़ानून बने."

तीन तलाक़ को चुनौती देने वाली औरतें

महिलाएं
EPA
महिलाएं

उनके मुताबिक "अगर एक से ज़्यादा विवाह करने की प्रथा को ग़ैर-क़ानूनी नहीं किया जाता तो मर्द तलाक़ दिए बग़ैर वही रास्ता अपनाने लगेंगे, या फिर तीन महीने की मियाद में तीन तलाक़ देने का रास्ता अख़्तियार करने लगेंगे."

lok-sabha-home
BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Why are the political parties scared on three divorce bills

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X

Loksabha Results

PartyLWT
BJP+69285354
CONG+246488
OTH6931100

Arunachal Pradesh

PartyLWT
BJP101626
CONG033
OTH5510

Sikkim

PartyLWT
SKM41014
SDF4610
OTH000

Odisha

PartyLWT
BJD1130113
BJP22022
OTH11011

Andhra Pradesh

PartyLWT
YSRCP48102150
TDP121224
OTH101

LEADING

Akhilesh Yadav - SP
Azamgarh
LEADING