• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Kartik Purnima: कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई

|

वाराणसी। कार्तिक पूर्णिमा की हिंदू धर्म में काफी मान्यता है, इसे त्रिपुरी पूर्णिमा या गंगा स्नान के नाम से भी जाना जाता है। इस पुर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा की संज्ञा इसलिए दी गई है क्योंकि इस दिन ही भगवान शंकर ने त्रिपुरासुर नामक महाभयानक असुर का अंत किया था और वे त्रिपुरारी के रूप में पूजित हुए थे।

कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई

ऐसा माना जाता है कि आज के दिन गंगा में डुबकी लगाने से इंसान के सारे पाप धुल जाते हैं इसलिए आज काशी, प्रयागराज, नासिक और हरिद्दार में सुबह से ही भक्तगण गंगा में डुबकी लगा रहे हैं।

कृतिका में शिव शंकर के दर्शन

कृतिका में शिव शंकर के दर्शन

ऐसी मान्यता है कि इस दिन कृतिका में शिव शंकर के दर्शन करने से सात जन्म तक व्यक्ति ज्ञानी और धनवान होता है। इस दिन चन्द्र जब आकाश में उदित हो रहा हो उस समय शिवा, संभूति, संतति, प्रीति, अनुसूया और क्षमा इन छ: कृतिकाओं का पूजन करने से शिव जी की प्रसन्नता प्राप्त होती है।

कैसे करें पूजा

कैसे करें पूजा

  • अगर संभव हो तो इस दिन हर जातक को गंगा स्नान करना चाहिए।
  • स्नान के बाद उसे भगवान विष्णु की पूजा-आरती करनी चाहिए।
  • इस दिन जातक को उपवास रखना चाहिए या फिर एक समय ही भोजन करना चाहिए।
  • नमक का सेवन ना करें इस दिन और हो सके तो ब्राह्मणों को दान दें और उन्हें भोजन कराएं।
  • शाम के समय निम्न मंत्र से चन्द्रमा को अर्घ्य देना चाहिए
  • वसंतबान्धव विभो शीतांशो स्वस्ति न: कुरु

यह भी पढ़ें: मेष राशि वाली महिलाएं किस राशि के पुरूष से विवाह करें?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Devotees take holy dip in Ganga river on KartikPurnima, Kartika Poornima is a Hindu and Jain holy festival, celebrated on the Purnima (full moon) day or the fifteenth lunar day of Kartika. Here is Puja Vidhi .
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X