• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सुशांत सिंह मामले की रिपोर्टिंग को लेकर बॉम्बे हाई कोर्ट ने मीडिया से किया ये आग्रह

|

नई दिल्ली। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद जिस तरह से इस पूरे मामले की मीडिया रिपोर्टिंग हो रही है, उसको लेकर सुशांत के परिवार वालों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, इस पर कोर्ट ने अहम टिप्पणी की है। सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह ने कहा था कि मीडिया से मेरी गुजारिश है कि वह इस केस से जुड़ी बातों को उजागर ना करें, इससे मामले की जांच में बाधा पहुंच सकती है और आरोपी गवाहों को मैनेज कर सकते हैं। इसके अलावा उन्होंने आरोप गाया था कि कुछ चैनल दुर्भावनापूर्ण अभियान चला रहे हैं। इस मामले को लेकर बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा कि हम मीडिया से आग्रह करते हैं कि मृत्यु के संबंध में जांच की रिपोर्टिंग में संयम बरतें, जिससे किसी भी तरह से जांच में बाधा न आए।

    Sushant Singh Rajput Case: Media Trial पर High Court ने कहा- संयम बरते मीडिया | वनइंडिया हिंदी

    sushant

    बुधवार को मीडिया को संबोधित करते हुए विकास सिंह ने कहा कि पहले बिहार में सुशांत के परिवार वालों ने रिया पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज की थी, लेकिन अब ये हत्या का मामला लगता है। विकास सिंह ने कहा कहा कि मुंबई पुलिस ने जो स्टेटमेंट जारी किया था, वो मराठी भाषा में था, सुशांत का परिवार मराठी नहीं जानता है, उसने जो कुछ भी उस वक्त कहा, मुंबई पुलिस ने उसी स्टेटमेंट को सुप्रीम कोर्ट के सामने सील्ड कवर में पेश किया है, जो कि बिल्कुल गलत है।

    आपको बता दें कि जून में मुंबई पुलिस के सामने एक्टर के पिता जो बयान दिया था, उसमें उन्होंने कहा था कि मैं नहीं जानता कि मेरे बेटे ने आत्महत्या क्यों की, उसने कभी किसी तरह के तनाव या डिप्रेशन के बारे में बात मुझसे नहीं की, मुझे सुशांत की मौत को लेकर किसी से शिकायत नहीं है, न ही संदेह है, मुझे लगता है कि सुशांत ने उदासी के कारण आत्महत्या की है।

    इसे भी पढ़ें- सुशांत के पिता के वकील विकास सिंह ने कहा- परिवार को लगता है कि एक्टर की हत्या हुई

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Sushant Singh Rajput Case: Bombay high court urges media to restraint in reporting.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X