• search
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    डोकलाम से लगे सिक्किम-अरुणाचल के इलाकों का जायजा लेने जाएगी संसदीय समिति, राहुल गांधी भी होंगे शामिल

    By Ankur Kumar Srivastava
    |

    नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब चीन के दौरे पर थे तो कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने डोकलाम मसले पर सरकार की नीतियों को लेकर कई सवाल खड़े किए थे। इससे पहले भी वो डोकलाम मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरते रहे हैं। लेकिन अब वह खुद चीनी सीमा से सटे सिक्किम और अरुणाचल के इलाकों का जायजा लेने जा सकते हैं। उनका यह दौरा विदेश मामलों की संसदीय समिति के तहत होगा। इस टीम का नेतृत्व राहुल गांधी और शशि थरूर करेंगे। बता दें कि पिछले साल डोकलाम विवाद पर दोनों देशों के बीच 72 दिन तक टकराव रहा था। मोदी के हाल के दौरे में दोनों देश के बीच सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए सहमति बनी है।

    डोकलाम से लगे सिक्किम-अरुणाचल के इलाकों का जायजा लेंगे राहुल गांधी

    समिति डोकलाम में भारत-चीन सैन्य गतिरोध के तमाम पहलुओं पर गौर कर रही है। पूर्व और मौजूदा विदेश सचिव विजय गोखले के द्वारा समिति को कई बार इस मामले पर जानकारी दी जा चुकी है। एक सूत्र ने बताया कि संसदीय समिति का एक दल उक्त दोनों सीमावर्ती राज्यों के जमीनी हालात का आकलन करेगा। इस दौरे का मकसद भारत-चीन सीमा के वास्तविक हालात का पता लगाना है। यदि संभव हुआ तो यह दल उस स्थान पर भी जाएगा, जहां चीनी घुसपैठ हुई थी।

    हेलीकॉप्‍टर से होगा हवाई सर्वेक्षण

    जानकारी के मुताबिक संसदीय दल सीमा के हालात पता लगाने के लिए हेलिकॉप्टर से हवाई सर्वेक्षण भी कर सकता है। इसके अलावा मौके पर तैनात रक्षा व सुरक्षा अधिकारियों से बातचीत भी की जाएगी। इससे पहले 31 सदस्यीय संसदीय समिति को विदेश मंत्रालय के अफसरों ने बताया कि डोकलाम मामले में भूटान, भारत के साथ है। दरअसल डोकलाम सिक्किम सेक्टर में आता है और यह तीनों देशों का ट्रायजंक्शन है।

    जानिए क्‍या था डोकलाम विवाद

    डोकलाम में विवाद 16 जून को तब शुरू हुआ था, जब इंडियन आर्मी ने वहां चीन के सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया था। हालांकि चीन का दावा था कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा था। इस एरिया का भारत में नाम डोका ला है जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है। चीन दावा करता है कि ये उसके डोंगलांग रीजन का हिस्सा है। भारत-चीन का जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक 3488 km लंबा बॉर्डर है। इसका 220 km हिस्सा सिक्किम में आता है। बता दें कि भारतीय-चीन बॉर्डर पर डोकलाम इलाके में दोनों देशों के बीच मिड 16 जून से 28 अगस्त के बीच तक टकराव चला था। हालात काफी तनावपूर्ण हो गए थे। बाद में अगस्त में यह टकराव खत्म हुआ और दोनों देशों में सेनाएं वापस बुलाने पर सहमति बनी।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    The Parliamentary Standing Committee on External Affairs, headed by Congress MP Shashi Tharoor and including Rahul Gandhi, will visit border areas in Sikkim and Arunachal Pradesh next month to take stock of the situation following the Doklam crisis with China.
    For Daily Alerts

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more