• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

बैन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचा NDTV, सरकार के फैसले को चुनौती

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली। चैनल पर एक दिन के लिए लगे बैन को लेकर एनडीटीवी इंडिया ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। एनडीटीवी ने कोर्ट में सरकार (सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय) के फैसले को चुनौती देते हुए याचिका दायर की है। आपको बता दें कि एनडीटीवी इंडिया पर एक दिन के प्रसारण की रोक का मुद्दे पर राजनीति गरमाई हुई है। अब देखना यह होगा की कोर्ट इस मामले में क्या फैसला सुनाता है।

इंसानियत शर्मसार: भिखारी के पास नहीं थे पैसे, 60 KM तक ठेले पर लेकर गया पत्नी का शवइंसानियत शर्मसार: भिखारी के पास नहीं थे पैसे, 60 KM तक ठेले पर लेकर गया पत्नी का शव

NDTV moves Supreme Court against I & B Ministry order

क्‍यों लगा है बैन?

हिंदी न्यूज़ चैनल एनडीटीवी इंडिया पर आरोप है कि उसने पठानकोट हमले के दौरान ऐसी संवेदशनशील जानकारी प्रसारित की जिससे आतंकवादियों को मदद मिल सकती थी। सरकार ने नियमों के उल्लंघन के आरोप में एनडीटीवी इंडिया पर एक दिन का बैन लगाया है।

NDTV इंडिया पर बैन को लेकर सुभाष चंद्रा ने कहा, 'लाइफ टाइम लगा दो बैन'NDTV इंडिया पर बैन को लेकर सुभाष चंद्रा ने कहा, 'लाइफ टाइम लगा दो बैन'

इससे पहले जी मीडिया ग्रुप के प्रमुख और राज्‍य सभा सांसद सुभाष चंद्रा ने एनडीटीवी इंडिया पर लगे बैन को सही ठहराया और कहा कि इसपर आजीवन प्रतिबंध लगा देना चाहिए था। चंद्रा ने ट्वीट कर कहा कि एनडीटीवी इंडिया पर एकदिवसीय प्रतिबंध नाइंसाफी है, यह सजा बहुत कम है।

देश की सुरक्षा से खिलवाड़ के लिए उन पर आजीवन प्रतिबंध लगाना चाहिए था। उन्‍होंने लिखा है कि मेरा तो यह भी विश्वास है की अगर एनडीटीवी इंडिया न्यायालय में जाए तो उसे वहां से भी फटकार ही मिलेगी।

Comments
English summary
NDTV on Monday said that it has filed a writ petition in the Supreme Court challenging a government order, which has directed its Hindi Channel NDTV India to go off-air for a day.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X