• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

शरद पवार और अजीत पवार में से किसमें अपना भविष्य चुनेंगे एनसीपी विधायक!

|
Google Oneindia News

बेंगलुरू। महाराष्ट्र की सियासत के नामचीन चेहरों में शुमार एनसीपी प्रमुख शरद पवार का नाम हार मानने वाले नेताओं में नहीं है, लेकिन लगता है पहली बार शरद पवार भतीजे अजित पवार के सामने नतमस्तक होने वाले हैं। अजीत पवार ने पार्टी से तब बगावत की जब एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार गठन की तैयारियों को मूर्ति रूप दे चुके थे।

pawar

गौरतलब है अजीत पवार ने बीजेपी के साथ मिलकर महाराष्ट्र सरकार में शामिल हो गए बावजूद इसके शरद पवार अजित पवार के खिलाफ सख्त रुख नहीं अपना पा रहे हैं। उम्रदराज शरद पवार एनसीपी के दिग्गज नेताओं को भतीजे को मनाने में जुटे हैं।

वैसे भी कहा जाता है कि कोई कितना भी बड़ा बलशाली क्यों न हो, वह अपनों से हार ही जाता है। कुछ ऐसा ही हाल शरद पवार का है, जो भतीजे अजीत पवार के बगावत के बाद भी उसके खिलाफ कोई कार्रवाई करना तो दूर सॉफ्ट रवैया अख्तियार किए हुए हैं। यह ठीक वैसा ही है जैसे पूर्व सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने बेटे अखिलेश की बगावत के आगे हथियार डाल दिए थे।

pawar

पूर्व जेडीएस चीफ एचडी देवगौड़ा ने बेटे एचडी कुमारास्वामी के बगावत के बाद भी चुप्पी साध ली थी। शरद पवार लगातार भतीजे अजीत पवार के साथ भी उसी मोड में हैं। शायद यही कारण है कि अजित पवार के कड़े रूख के बाद भी शरद पवार नरम पड़े हुए हैं। यह नर्मी की इंतिहा की कहेंगे कि उन्होंने महाराष्ट्र में ढाई-ढाई साल के CM के मुद्दे का शिगूफा छोड़ दिया है।

pawar

शरद पवार अच्छी तरह से जानते हैं कि शिवसेना महाराष्ट्र में पूर्णकालिक मुख्यमंत्री से कम पर तैयार नहीं होगी, लेकिन 50-50 मुख्यमंत्री को राग छेड़कर शरद पवार ने संभावित के भविष्य को भी दांव पर लगाने से गुरेज नहीं किया, क्योंकि वो अजित पवार की वापसी सुनिश्चित करना चाहते हैं। यह शरद पवार की किसी दीर्घकालिक राजनीति का हिस्सा माना जा सकता है।

pawar

क्योंकि 22 नवंबर रात 9 बजे तक शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत के साथ महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर बातचीत करने वाले अजित पवार के अचानक गायब होने और फिर सुबह बीजेपी के साथ अप्रत्याशित गठबंधन करके महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम की शपथ लेने की गुत्थी अभी तक सुलझ नहीं सकी है।

निः संदेह शरद पवार एनसीपी के राजनीतिक भविष्य और उत्तराधिकारी के रूप में अजित पवार को देखते हैं। एनसीपी से बगावत के बाद लगातार कड़ा रूख अपनाने वाले अजित पवार के खिलाफ शरद पवारा का सॉफ्ट रवैया बतलाता है कि एनसीपी कहीं न कहीं पूरी तरह से अजित पवार पर निर्भर है, क्योंकि पिछले दो दशकों से अजित पवार ही एनसीपी के औपचारिक कामकाज का जिम्मा संभाल रहे हैं।

pawar

इनमें महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में टिकट बंटवारा का फैसला भी शामिल है। शरद पवार ने एनसीपी से बगावत के बाद गठबंधन में शामिल दलों को दिखाने के लिए अजित पवार को विधायक दल के नेता पद से हटा दिया, लेकिन अभी तक अजित पवार को पार्टी से बर्खास्त करने की जहमत नहीं उठा सके हैं।

आखिर क्या वजह है कि सियासत के सबसे मजबूत चेहरा रहा शरद पवार आज मजूबर है। ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि शरद पवार के बाद भतीजे अजीत पवार ही भविष्य में एनसीपी की कमान संभालेंगे, बेटी सुप्रिया सूले का कहीं कोई नाम नहीं था। फिर क्या वजह थी कि अजित पवार उस बीजेपी के साथ गलबहियां करके खड़े हो गए, जिसके साथ नहीं खड़े होने की शरद पवार कसमें खा रहे हैं।

pawar

कहीं ऐसा तो नहीं है कि एनसीपी चीफ शरद पवार ने तकनीकी रूप से एनसीपी की कमान अजित पवार के हवाले कर दी है। अगर ऐसा नहीं होता तो 27 नवंबर को फ्लोर टेस्ट करवाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी बीजेपी शांत है और फ्लोर टेस्ट में अपनी जीत देख रही है।

एनसीपी को तोड़कर बीजेपी के साथ हाथ मिलाने के बाद अजित पवार का पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाना तय था, लेकिन अभी तक अजित के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं किया जाना दर्शाता है कि सियासत के सूरमा शरद पवार कहीं अटके तो जरूर हैं।

pawar

यही कारण है कि अजित पवार के लगातार नकारात्क जवाबों के बाद भी शरद पवार पूरी तरह से सॉफ्ट रुख अख्तियार किए हुए हैं। 'पवार परिवार' की कोशिश है कि किसी भी तरह अजित पवार को मनाया जाए और उन्हें फिर एनसीपी खेमे में वापस बुलाया जाए। इसी सिलसिले में अभी शरद पवार और सुप्रिया सुले ने अजित पवार के भाई श्रीनिवास से भी बात की है।

अजित पवार को मनाने में शरद पवार ने एनसीपी के दिग्गज नेताओं को लगा रखा है, जो लगातार अजित से संपर्क साधने की कोशिश कर रहे हैं। इनमें महाराष्ट्र के राजनीति में दिग्गज नेता छगन भुजबल और जयंत पाटिल जैसे बड़े एनसीपी नेता शामिल हैं।

pawar

अजित पवार की जगह पर एनसपी के नए विधायक दल के नेता चुने गए जयंत पाटिल सार्वजनिक तौर पर ट्वीट करके अजित पवार से घर वापसी की गुहार लगा रहे हैं। इतना ही नहीं, एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक अजित पवार को डिप्टी सीएम बनने को मासूम गलती ठहराने से नहीं चूक रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब 27 नवंबर यानी कल महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है। देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार के भविष्य के साथ ही एनसीपी के राजनीतिक भविष्य का भी टेस्ट होना है।

pawar

फ्लोर टेस्ट के बाद अगर एनसीपी के 54 विधायक बीजेपी के पाले में खड़े नजर आए तो यह तय हो जाएगा कि एनसीपी अब शरद पवार की कमान से निकलकर अजित पवार के हाथों में पहुंच गई है, जिसका डर शरद पवार को सता रहा है और अगर एनसीपी विधायक उम्रदराज शरद पवार में भविष्य चुनते हैं तो बीजेपी की सरकार गिर जाएगी।

यह भी पढ़ें- महाराष्ट्र पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद क्या बोले एनसीपी चीफ शरद पवार

English summary
Sharad Pawar, the strongest face of Maharashtra's politics, has become weak today. It was speculated that after Sharad Pawar, nephew Ajit Pawar will take charge of NCP in future, daughter Supriya Sule had no name even before. Then what was the reason that Ajit Pawar stood up with the BJP, with whom Sharad Pawar is vowing not to stand.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X