• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

6 महीने पहले जिसकी बॉडी 12 टुकड़ों में मिली, जिंदा लौटकर उसने सुनाई चौंकाने वाली कहानी

|

नई दिल्ली। अक्सर आपने ऐसी खबरें सुनी होंगी, जिनमें किसी शख्स की मौत हुई और उसके बाद अंतिम संस्कार के समय वो शख्स जिंदा हो गया। या फिर...कोई शख्स अपनी मौत के कुछ दिन बाद जिंदा घर वापस लौट आया। झारखंड की एक 16 साल की लड़की के साथ कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है। दरअसल इस लड़की की 'हत्या' करीब 6 महीने पहले मई के महीने में दिल्ली में हुई थी। दिल्ली पुलिस ने शव की पहचान कराई और पोस्टमार्टम के बाद उसका अंतिम संस्कार करा दिया। लेकिन...अब इस कहानी में एक नया मोड़ आ गया है। जिस लड़की की हत्या 6 महीने पहले दिल्ली में हुई, वही लड़की झारखंड में सोमवार को जीवित अपने घर लौट आई और उसने जो कहानी सुनाई है, वो बेहद हैरान करने वाली है।

पहले पढ़िए कहानी का एक हिस्सा

पहले पढ़िए कहानी का एक हिस्सा

इस कहानी की शुरुआत होती है दिल्ली के मियांवाली नगर इलाके से। 3 मई 2018 को दिल्ली पुलिस को इस इलाके में एक नाले के पास काले रंग के बैग में करीब 16 साल की लड़की का शव मिला। पुलिस ने शव की पहचान के लिए खोजबीन की तो पता चला कि यह लड़की एक घरेलू नौकर थी, जिसका नाम सोनी कुमारी था और उसकी करीब 2 लाख रुपए सैलरी उसके मालिकों पर बाकी थी। नौकरानी ने सैलरी मांगी तो घर के मालिक ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद तीनों ने घर के अंदर ही शव को 12 टुकड़ों में काटा और बैग में भरकर मियांवाली इलाके में एक नाले के पास फेंक दिया। पुलिस ने अपनी सूझबूझ से केस की गुत्थी सुलझाई और तीनों आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में अपना गुनाह कुबूल भी कर लिया। ये कहानी का एक हिस्सा है, अब शुरू होता है दूसरा हिस्सा।

ये भी पढ़ें- 22 दिन बाद तेजप्रताप ने ऐश्वर्या के लिए लिखी 'दिल की बात', इशारों-इशारों में कहा सबकुछ

और ये है हैरान करने वाला दूसरा हिस्सा

और ये है हैरान करने वाला दूसरा हिस्सा

बीते सोमवार को वही लड़की, जिसकी हत्या का ऊपर जिक्र किया गया है, अपने परिजनों के साथ झारखंड के लातुंग पुलिस स्टेशन पहुंची और वो कहानी सुनाई, जिसे सुनकर पुलिसवालों के माथे पर भी पसीने आ गए। लातुंग पुलिस स्टेशन के इंचार्ज विकास कुमार के मुताबिक, लड़की ने बताया कि वो यूपी के नोएडा में एक घर में झाड़ू-पोंछा करने का काम करती थी। एक दिन उसने टीवी पर देखा कि न्यूज चैनल में उसकी मौत की खबर चल रही है। लड़की ने अपनी ही मौत की खबर टीवी पर देखी तो तुरंत घर के मालिकों को बताया और कहा कि वो उसके साथ पुलिस स्टेशन चलें। लेकिन...चूंकि लड़की नाबालिग थी और घर के मालिकों को लगा कि पुलिस स्टेशन जाकर कहीं वो ही 'बाल श्रम' कराने के चक्कर में ना फंस जाएं, इसलिए उन्होंने पुलिस के पास जाने से मना कर दिया और उल्टे उस लड़की को ही नौकरी से निकालकर घर से बाहर कर दिया।

इस तरह पहुंची लड़की अपने घर

इस तरह पहुंची लड़की अपने घर

इसके बाद उस लड़की ने सोचा कि वो अपने घर जाए और परिजनों को इस बारे में बताए। लड़की झारखंड जाने के लिए निकली लेकिन स्टेशन पर रास्ता भटक गई। रेलवे स्टेशन पर पुलिस ने लड़की को देखा और हरियाणा के एक एनजीओ द्वारा संचालित शेल्टर होम में भेज दिया। इसके बाद एनजीओ के ही एक सदस्य की मदद से लड़की बीते 19 नवंबर को अपने घर पहुंची। घर पहुंचकर लड़की ने सारी बात अपने परिजनों को बताई और इसके बाद परिजन उसे लेकर लातुंग पुलिस स्टेशन पहुंचे। लड़की के परिजनों का कहना है कि उनकी बेटी को मानव तस्करी गिरोह के कुछ लोग नौकरी दिलाने के नाम पर जुलाई 2017 में चंडीगढ़ ले गए थे। लड़की ने अपने परिजनों को बताया कि चंडीगढ़ जाकर उन लोगों ने उसे एक घर में घरेलु नौकरानी के तौर पर बेच दिया। कुछ महीनों बाद वो लड़की वहां से भाग निकली और दिल्ली आ गई। दिल्ली में वो एक दूसरे मानव तस्करी गिरोह के चंगुल में फंस गई और उन्होंने उसे नोएडा में एक घर में बेच दिया।

फिर वो कौन थी, जिसका शव टुकड़ों में मिला

फिर वो कौन थी, जिसका शव टुकड़ों में मिला

इस कहानी में चौंकाने वाला तथ्य यह भी है कि पुलिस को दिए अपने बयान में लड़की ने उन तीनों आरोपियों को पहचानने से इंकार कर दिया, जिनके ऊपर उसकी हत्या का केस दर्ज था। लड़की ने बताया कि उसने इन तीनों को कभी नहीं देखा। झारखंड पुलिस ने मामले की जानकारी तुरंत दिल्ली पुलिस की दी। अब पुलिस के सामने ये सवाल सिर ताने खड़ा है कि अगर ये लड़की जिंदा है, तो फिर वो कौन थी, जिसका शव उसे टुकड़ों में कटा हुआ मिला। दिल्ली पुलिस का कहना है कि हत्या के आरोपियों ने खुद अपना गुनाह कबूला था और उन्होंने लड़की के भाई को झारखंड से बुलाकर शव की पहचान भी कराई थी। पुलिस के मुताबिक बॉडी उस वक्त पहचाने जाने की अवस्था में थी और उसके भाई ने उसे पहचाना भी था। अब पुलिस का कहना है कि हो सकता है कि इस मामले में शव को पहचानने में कोई गलती हुई हो। पुलिस कह रही है कि वो अपने घर जिंदा लौटी लड़की के दावों की जांच करेंगे और इसके लिए नोएडा के उसके मालिकों से भी पूछताछ करेंगे।

ये भी पढ़ें- तेजप्रताप ने पत्नी संग काटा बर्थडे केक, तस्वीरों ने खोला दोनों की मोहब्बत का राज

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Jharkhand Girl Returns Home After Declared Dead in Delhi.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X