• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जमात से जुड़े लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट

|

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने निजामुद्दीन स्थित मरकज में लॉकडाउन के बाद तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों को इकट्ठा करने और कोरोना महामारी में लापरवाही के आरोपों को लेकर चार्जशीट दाखिल की है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रान्च ने 83 विदेशी नागरिकों के खिलाफ साकेत कोर्ट में 20 चार्जशीट दाखिल की हैं। ये 20 चार्जशीट 14 हजार पन्नों की हैं। देश में जब कोरोना वायरस संक्रमण की शुरुआत हुई थी तो इसमे सबसे बड़ा योगदान तबलीगी जमात के लोगों का था, जिन्होंने जमात में शामिल होने के बाद देश के अलग-अलग हिस्सों में इस वायरस को फैलाया था। अब जब जमात के तकरीबन सभी लोगों को ट्रेस कर लिया गया है और उनका इलाज करके उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है तो दिल्ली पुलिस इन लोगों के खिलाफ एक्शन में है। दिल्ली पुलिस ने निजामुद्दीन मरकज मामले में स्टेटस रिपोर्ट फाइल की थी। इसमे कहा गया है कि मौलाना साद और अन्य लोगों ने बड़ी संख्या में लोगों की मरकज में इकट्ठा होने दिया, यहां किसी भी तरह की सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया था। दिल्ली पुलिस 83 विदेशी नागरिक जिनका मरकज से संबंंध है उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल हुई है।

ाीुूीपूबरह

मौलाना साद के खिलाफ कार्रवाई

इससे पहले तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद के खिलाफ क्राइम ब्रांच की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उनके बेटे मोहम्मद सईद के पासपोर्ट को सीज कर दिया था। इसके अलावा मौलाना साद के करीबी 5 व्यक्तियों के भी पासपोर्ट जब्त कर लिए गए थे। जानकारी के अनुसार ये सभी लोग मरकज के प्रबंधन से जुड़े थे। क्राइम ब्रांच की इस कार्रवाई के बाद इन लोगों का देश छोड़कर भाग पाना संभव नहीं है। हाल के कुछ दिनों से क्राइम ब्रांच ने मरकज और मौलाना साद से जुड़े लोगों से पूछताछ कर रही है। इसके साथ ही क्वारेंटीन में रखे गए जमातियों को नोटिस देकर उनके पासपोर्ट, वीजा व अन्य दस्तावेजों की भी जांच की जा रही है। अभी तक क्राइम ब्रांच ने 816 विदेशी जमातियों को नोटिस भेजकर उनसे पूछताछ कर रही है।

डॉक्टर हर्षवर्धन ने ठहराया था जिम्मेदार

हाल ही में देश में मार्च में बड़ी संख्या में आए कोरोना मामलों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने एक बार फिर से तबलीगी जमात को जिम्मेदार ठहराया था। रविवार को एक बैठक के दौरान केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि तबलीगी जमात की वजह देश में कोरोना के मामले बढ़े हैं, लेकिन उन्होंने यह भी साफ किया कि यह बात पुरानी हो गई है। दरअसल भाजपा सांसद और प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने सवाल पूछा था कि, क्या तबलीगी जमात से भारत में कोरोना बढ़ा?

कई राज्यों में बढ़ा मामला

भाजपा सांसद और प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव के साथ संवाद में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि, इसपर बहुत चर्चा हुई, कहते हुए दुख भी होता है कि मार्च में जब दुनिया में तेजी से संक्रमण हो रहा था तब भारत में केसों की संख्या मामूली थी। उस वक्त यह गैर जिम्मेदाराना काम हुआ। यह वाक्या उस समय का है, जब 10 -15 लोगों के एक जगह जुटने पर पाबंदी थी, लेकिन हजारों लोग विश्व के 10 से 15 देशों के जमा हुए। इसके बाद वे देश के कई भागो में फैल गये। इनकी वजह से देश के कई राज्यों में कोरोना के मामले बढ़े।

अनुशासन का पालन करना चाहिए

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, इस मामले से निपटने में कई राज्यों और गृह मंत्री ने मदद की और हम इसको कंट्रोल करने में सफल रहे। लेकिन आज उसकी चर्चा की जरूरत नहीं है। हमने उन लोगों को इलाज किया और क्वारंटाइन किया। 28 दिनों तक क्वारंटाइन में रखने के बाद हमने खुद उनको अपने घर रवाना किया है। हमें अनुशासन का पालन करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें- 1 लाख 45 हजार के पार पहुंची कोरोना के मरीजों की संख्या, सामने आए 6535 नए केस

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Delhi police to file 20 charge sheet against 83 foreign nations in connection wit Jamaat.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X