• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अमृतसर हादसा: वॉट्सऐप पर देखा बेटे का कटा सिर, नहीं मिला बेबस पिता को पुत्र का पूरा शव

|

अमृतसर। शुक्रवार शाम को पंजाब के अमृतसर में जो हुआ है उसकी कल्पना कभी कोई सपने में भी नहीं कर सकता है। इस दिल दहला देने वाली घटना ने इंसान को झकझोर कर रख दिया है, इस हादसे में जिनके घर की खुशियों उजड़ी हैं, उसकी भरपाई कोई भी नहीं कर सकता है। अमृतसर रेल हादसे के शिकार हुए लोगों के परिजनों को अब भी यकीन नहीं हो रहा कि उनके साथ नियति ने इतना घिनौना खेल खेला है।

कटे सिर की फोटो देखकर पटरी पर पहुंचा था पिता

कटे सिर की फोटो देखकर पटरी पर पहुंचा था पिता

अमृतसर निवासी विजय कुमार वो दृश्य याद कर सिहर उठते हैं, जब उन्होंने अपने 18 साल के अपने बेटे के कटे हुए सिर की फोटो अपने व्हाट्सऐप पर तड़के तीन बजे देखी, कंपकंपाती आवाज और भरे गले से बोलते हुए विजय कुमार ने कहा कि एक पिता की इससे बड़ी बदकिस्मती नहीं हो सकती है कि वो अपने ही बेटे की मौत देखे और मैं तो वो दुर्भाग्यशाली व्यक्ति हूं जिसे अपने बेटे का पूरा शव भी नसीब नहीं हुआ।

यह भी पढ़ें: अमृतसर हादसा: विरोध के बीच अस्पताल में घायलों का इलाज करती रही नवजोत कौर, देखें VIDEO

नहीं मिला बेटे का पूरा शव

नहीं मिला बेटे का पूरा शव

विजय के दो बेटों में से एक आशीष भी घटनास्थल पर था, जिसकी तो जान बच गई लेकिन उसका भाई मनीष हादसे का शिकार हो गया, विजय को जब इस हादसे का पता चला, तो वो अपने बेटे की तलाश में एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल भटकते रहे, लेकिन कुछ पता नहीं चला, फिर अचानक तड़के तीन बजे उनके फोन के व्हाट्सऐप पर एक फोटो आई, जिसमें उनके बेटे का कटा हुआ सिर था। इसके बाद वो रोते-बिलखते अपने बेटे की पूरी बॉडी खोजने लगे लेकिन उन्हें वो भी नहीं मिली।

मौत की रेल

मौत की रेल

आपको बता दें कि अमृतसर के निकट शुक्रवार शाम अमृतसर के चौड़ा बाजार स्थित जोड़ा फाटक के रेलवे ट्रैक पर लोग मौजूद थे, पटरियों से महज 200 फुट की दूरी पर पुतला जलाया जा रहा था, इसी दौरान जालंधर से अमृतसर जा रही डीएमयू ट्रेन वहां से गुजरी और ट्रैक पर मौजूद लोगों को कुचल दिया, इस हादसे में 60 लोगों की मौत हुई है, जबकि 72 लोग घायल हैं, हादसे के वक्त ट्रेन की रफ्तार करीब 100 किमी. प्रति घंटे थी।

यह भी पढ़ें: अपने बच्चों के शवों का इंतजार कर रही माएं, दिल दहला देने वाली 5 कहानियां...

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A WhatsApp photograph of a head flashed on Vijay Kumar's phone screen at 3 am, confirming his worst fears his 18-year-old son Manish was one of the revellers mowed down by a train while they were watching Ravan's effigy burnt the evening before.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more