7th Pay Commission: अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे कर्मचारी

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। जिस तरह से केंद्र सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के बेसिक न्यूनतम पे को बढ़ाने से इनकार कर दिया है, उसके बाद कर्मचारियों में काफी निराशा है। सातवें वेतन आयोग ने कर्मचारियों की न्यूनतम बेसिक सैलरी को बढ़ाने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन बावजूद इसके सरकार ने इस प्रस्ताव को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है। जिसके बाद कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है। कर्मचारियों का कहना है कि अगर सैलरी को बढ़ाया नहीं गया तो हम अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। केंद्र सरकार के कर्मचारियों की यूनियन के नेताओं का कहना है कि अगर सरकार ने सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू नहीं किया गया तो वह लोग अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। यूनियन के नेताओं का कहना है कि हमारे पास हड़ताल पर जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। हमसे कई तरह के वायदे किए गए थे लेकिन किसी भी वायदे को पूरा नहीं किया गया।

जेटली ने दिया धोखा

जेटली ने दिया धोखा

केंद्र सरकार के कर्मचारियों का कहना है कि वह वित्त मंत्री के रुख से काफी निराश हैं, जेटली ने ही हमे इस बात का भरोसा दिया था कि वह सैलरी को बढ़ाए जाने के प्रस्ताव को देखेंगे, उन्होंने हमे धोखा दिया है, ,लेकिन हम शांत नहीं बैठेंगे। आकिर कैसे सरकार कर्मचारियों के जीवन के साथ खेल सकती है। हमें राजनाथ सिंह और जेटली दोनों ने भरोसा दिया था। 30 जून 2016 को हम सैलरी को बढ़ाने के लिए हाई लेवल कमेटी का गठन करेंगे, इस कमेटी का गठन चार महीने के भीतर किए जाने की बात कही गई थी, लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

हाईक का दिया था भरोसा

हाईक का दिया था भरोसा

केंद्र सरकार के डेप्युटी सेक्रेटरी डीके गुप्ता ने जो पत्र लिखा था कि न्यूनतम सैलरी को बढ़ाया जाएगा, इसके लिए फिटमेंट फैक्टर फॉर्मूला को अपनाया जाएगा। न्यूनतम सैलरी को 18000 से बढ़ाकर कम से कम 26000 रुपए तक किए जाने का भरोसा दिया गया था। लेकिन इन तमाम भरोसे से इतर सरकार ने किसी भी वायदे को पूरा नहीं किया।

सातवें वेतन आयोग से निराशा

सातवें वेतन आयोग से निराशा

कर्मचारियों का कहना है कि जो रिपोर्ट दी गई थी, उसके पैरा 1.19 में लिखा था कि सैलरी मे बढ़ोतरी को स्वीकार किया जाएगा। पैरा 2.1.38 में लिखा था कि वार्षिक बढ़ोतरी को भी 3 फीसदी तक किया जाएगा। उदाहरण के तौर पर अगर किसी कर्मचारी की सैलरी 46100 रुपए है तो उसे 3 फीसदी की वार्षिक बढ़ोतरी मिलेगी, बजाए इसके कि उसकी सैलरी को 47483 पर फिक्स कर दिया जाए

इसे भी पढ़ें-7th Pay Commission: सैलरी बढ़ोतरी में न उम्मीद न गुंजाइश,केंद्रीय कर्मचारियों को मिली सिर्फ निराशा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
7th Pay Commission: Latest news, indefinite strike, Jaitley the great betrayer. Now the CG employees have said that they would go on an indefinite strike if the basic minimum pay is not hiked.
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.