• search
हैदराबाद न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

CJI रमना ने कहा- विवेकानंद के शब्दों पर ध्यान देने की जरूरत, अंधविश्वास-कठोरता से ऊपर होना चाहिए धर्म

|
Google Oneindia News

हैदराबाद, 12 सितंबर: चीफ जस्टिस एनवी रमना हैदराबाद में विवेकानंद इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमन एक्सीलेंस के 22वें स्थापना दिवस के कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने स्वामी विवेकानंद के ऐतिहासिक शिकागो संबोधन की 128वीं वर्षगांठ के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि अंधविश्वास, कठोरता से ऊपर धर्म होना चाहिए। स्वामी विवेकानंद के शब्दों पर ध्यान देने की जरूरत है।

Chief Justice

मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने अपने संबोधन में कहा कि धर्म अंधविश्वासों और कठोरता से ऊपर होना चाहिए। इसके साथ ही जोर देते हुए कहा कि समाज में अर्थहीन और सांप्रदायिक संघर्षों से उत्पन्न खतरों के बारे में स्वामी विवेकानंद के शब्दों पर अब अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। सीजेआई ने बताया कि स्वामी विवेकानंद ने 1893 में शिकागो में आयोजित हुई धर्म संसद के दौरान अपने भाषण में सहिष्णुता और सार्वभौमिक स्वीकृति के विचार का प्रचार किया था।

    Indira Gandhi पर Justice Jagmohan ने क्या फैसला दिया था, जिसकी CJI ने की तारीफ | वनइंडिया हिंदी

    स्वामी जी के आदर्शों को करना चाहिए स्थापित

    अपने संबोधन में मुख्य न्यायाधीश रमना ने कहा कि आज समकालीन भारत में 1893 में स्वामी विवेकानंद द्वारा बोले गए शब्दों पर ध्यान देने की ज्यादा जरूरत है। वह भविष्यवाणी करने वाले थे। उन्होंने धर्मनिरपेक्षता की वकालत की जैसे कि उन्होंने घटनाओं का पूर्वाभास किया। उन्होंने बताया कि अच्छाई और सहिष्णुता के सिद्धांतों के जरिए पुनरुत्थानशील भारत बनाने के सपने को पूरा करने के लिए हमें आज के युवाओं में स्वामी जी के आदर्शों को स्थापित करना चाहिए।

    आजादी के 75 साल बाद भी SC में केवल 11% महिला प्रतिनिधित्व: CJI एनवी रमनाआजादी के 75 साल बाद भी SC में केवल 11% महिला प्रतिनिधित्व: CJI एनवी रमना

    युवाओं की शक्ति के बारे में सीजेआई ने कही ये बात

    इसी के साथ युवाओं की शक्ति का हवाला देते हुए रमना ने कहा कि उन्हें इस बात से अवगत होने की आवश्यकता है कि उनके कार्य "राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया का एक हिस्सा" हैं। वहीं अपने बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि मैं एक ग्रामीण पृष्ठभूमि से आता हूं। हमने खुद को शिक्षित करने के लिए संघर्ष किया। आज संसाधन आपकी उंगलियों पर उपलब्ध हैं। आधुनिक समाज जिस अति जागरूकता की अनुमति देता है, सूचना के प्रवाह में आसानी के साथ छात्र अधिक सामाजिक और राजनीतिक रूप से जागरूक होते हैं। मुख्य न्यायाधीश ने सलाह देते हुए कहा कि समाधान खोजने और समाज में सार्थक बदलाव लाने की मानसिकता के साथ जागरूकता भी होनी चाहिए।

    English summary
    Chief Justice NV Ramana speech on Swami Vivekananda Chicago address
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X