• search
गांधीनगर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

बाढ़ से वडोदरा बदहाल, ट्रैफिक पुलिस बोली- 15 अगस्त तक सिग्नल तोड़ने पर नहीं लगेगा जुर्माना

|

गांधीनगर। गुजरात में भारी बारिश से वडोदरा, नवसारी और वलसाड जैसे जिलों में बाढ़ एवं जलभराव का संकट पैदा हो गया है। 31 जुलाई को शुरू हुई बारिश से एक ही दिन में वडोदरा में तो 20 इंच पानी बरसा था। उसके साथ ही विश्वामित्री नदी में उफान आ गया। फिर, नदी से पानी के साथ ही मगरमच्छ भी बहकर शहर में दिखाई देने लगे। पूरा शहर जलमग्न हो गया था। करीब 48 घंटों बाद आधे शहर में जलभराव कम हुआ। हालांकि, अभी भी कई ऐसे निचले इलाके हैं जहां बरसाती पानी भरा हुआ है। ऐसे में ट्रैफिक पुलिस की ओर से कहा गया है कि यदि लोगों से सिग्नल टूट जाए तो जुर्माना नहीं लगेगा।

7000 कारें और 50 हजार दुपहियों में पानी भरा

7000 कारें और 50 हजार दुपहियों में पानी भरा

ट्रैफिक पुलिस के इस फैसले से शहरवासी खुश हैं। राहतभरा फैसले में कहा गया है कि 15 अगस्त तक शहर में ट्रैफिक सिग्नल उल्लंघन होने पर भी किसी तरह का जुर्माना नहीं वसूला जाएगा। यानी, नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई नहीं होगी। एक अनुमान के मुताबिक, वडोदरा में जलभराव की वजह से करीब 7000 कारें और 50 हजार दुपहियों में पानी भरा है।

लोगों के करोड़ों रुपए खर्च होंगे

लोगों के करोड़ों रुपए खर्च होंगे

ऐसे में इन सभी की मरम्मत करने और वापस इन्हें उपयोग में लेने लायक बनाने पर लोगों के करोड़ों रुपए खर्च होंगे। ऐसे में पुलिस ने बारिश से आई बाढ़ से जूझ रहे लोगों को उबारने के लिए यह फैसला लिया है।

 मानवीय आधार पर यह फैसला लिया गया

मानवीय आधार पर यह फैसला लिया गया

वडोदरा की ट्रैफिक एसीपी अमिता वानाणी ने कहा कि मानवीय आधार पर यह फैसला लिया गया है। 15 अगस्त यानी अगले 8 दिन तक शहर में लोगों से किसी तरह का जुर्माना नहीं वसूला जाएगा।

यह भी पढ़ें: भतीजे ने चाची को पेट्रोल छिड़ककर जलाया, पुलिस ने लिए उसके आखिरी बयान, बच नहीं पाई वह'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Vadodara floods: Traffic penalty will not be imposed for breaking signal
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X