• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

उत्तराखंड: 'पेड़ वाले गुरुजी' गोद लेते हैं बालिकाएं, हर साल खुद के खर्च पर कराते हैं उनकी पढ़ाई

|

Uttarakhand hindi news, चमोली। उत्तराखंड के चमोली जिले में विद्यालयों में मनाए गए प्रवेशोत्सव के दौरान पोखरी ब्लॉक राजकीय इंटर कालेज गोदली के शिक्षक ने दो गरीब बालिकाओं को गोद लिया। उस शिक्षक ने कहा कि वह उनकी पढ़ाई का पूरा खर्च उठाएंगे। यह वही शिक्षक हैं, जिन्हें इलाके में लोग 'पेड़ वाले गुरुजी' के तौर पर जानते हैं। उनका वास्तविक नाम धनसिंह घरिया है, वह पर्यावरण प्रेमी रहे हैं।

In Uttarakhand, this teacher famous As Ped wale guruji is an inspiring person

मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने इंदू व जमुना नाम की बालिकाओं को अपने खर्च पर पढ़ाने का जिम्मा उठाया। घरिया के बारे में यह कहा जाता है कि वह वर्ष गरीब बालिकाओं की शिक्षा के लिए उन्हें गोद लेते हैं। इस वर्ष उन्होंने क्षेत्र की दो बालिकाओं को पढ़ाने के लिए गोद लिया है। इंदू व जमुना की पारिवारिक स्थिति ठीक नहीं है, जिसके कारण उन्होंने दसवीं के बाद अपनी पढ़ाई बंद कर दी थी, लेकिन दोनों में शिक्षा के प्रति लग्न थी और आगे पढ़ना चाहती थीं। इसका पता घरिया को चला तो उन्होंने दोनों ही बालिकाओं की पढ़ाई का जिम्मा उठाने का ऐलान किया। दोनों बालिकाओं को स्कूल ड्रेस देकर पूजा-पद्धति से उनका नामाकंन राइका गोदली में करवाया।

Read also: घर जन्मी बेटी तो मां-बाप ने रुपयों की चादर पर सुलाया, ऐसा उत्सव देखने उमड़ी भारी भीड़

जानें, कौन हैं धनसिंह घरिया

शिक्षक धनसिंह घरिया के बारे में यह चर्चित रहा है कि वे जब कभी अपने सगे-संबंधियों के घर जाते हैं तो वहां से पुराने कपडे़, किताबें मांगना नहीं भूलते। यहां तक की वे लोगों से पुराने अखबार, पत्र-पत्रिकाएं भी मांगकर ले जाते हैं। घरिया की पीठ पर हर समय एक बैग रहता है जिसमें उनकी जरूरत की सामग्री ही नहीं, बल्कि लोगों से एकत्र की गई सामग्री भी होती है। वे इन सभी सामग्री को स्कूल में ले जाकर जरूरतमंद बच्चों में बांट देते हैं। उन्हें दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय में रहते हुए एक लंबा समय हो गया है। कई बार उनका स्थानांतरण शहरी विद्यालयों में भी हुआ लेकिन उन्होंने स्वयं ही अपना स्थानांतरण रुकवाकर ग्रामीण क्षेत्र में रहने का आग्रह शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारियों से किया। वे बताते हैं कि ग्रामीण परिवेश के छात्रों को शिक्षकों की अधिक आवश्यकता है। इसलिए, वे ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में रह कर ही बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़ी सभी जानकारी यहां पढ़ें

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Uttarakhand, this teacher famous As 'Ped wale guruji' is an inspiring person
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X