• search
छत्तीसगढ़ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Ambikapur: नवजातों की मौत मामले में स्वास्थ्य मंत्री तक पहुंची जांच रिपोर्ट, डॉक्टरों पर गिर सकती है गाज

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में हुए 4 बच्चों की मौत के मामले में अब विशेषज्ञ डॉक्टरों ने जांच रिपोर्ट तैयार कर ली है। यह रिपोर्ट मंत्री टीएससी देव को सौंप दी गई है।
Google Oneindia News
TS singhdev

छत्तीसगढ़ में अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चार बच्चों के मौत की घटना को 3 दिन बीत चुके हैं। इस बीच मंत्री टीएस सिंहदेव और स्वास्थ्य सचिव डॉ आर प्रसन्ना ने घटना के बाद अस्पताल का निरीक्षण किया था जिसके बाद जांच कमेटी बनाकर 48 घण्टे में जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए थे। अब डीएमई ने जांच रिपोर्ट मंत्री टीएस सिंहदेव को सौंप दी है।

ambikapur

डीएमई ने मंत्री टीएस सिंहदेव को भेजी रिपोर्ट
मेडिकल कॉलेज अस्पताल के SNCU और NICU में नवजात बच्चों की मौत के मामले में 48 घंटे में जांच रिपोर्ट सौंपने के जिम्मेदारी मेकाहारा के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम को दी गई थी। जिसका समय बुधवार को समय पूरा हो गया है। इस टीम ने तय समय के अनुसार जांच पूरी कर डायरेक्टर ऑफ मेडिकल एजुकेशन को यह रिपोर्ट सौंप दी है। वहीं डीएमई ने भी इस गम्भीर मामले को बिना विलंब किये स्वास्थ्य मंत्री को भेज दिया है।

medical college

बच्चों की हालत गम्भीर लेकिन नहीं पहुंचे स्पेशलिस्ट डॉक्टर
दरअसल इस रिपोर्ट के तैयार होने के बाद अब मेडिकल कॉलेज में हड़कम्प मचा हुआ है। जबकि सोमवार और मंगलवार रात टीम जांच के बाद रिपोर्ट तैयार कर ली थी। जांच रिपोर्ट में क्या है इसका खुलासा तो मंत्री ही करेंगे।इस घटना के मामले में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने 48 घंटे में जांच के बाद रिपोर्ट के आधार पर जिम्मेदारों पर कार्रवाई की बात कही थी। लेकिन यह बात डॉक्टरों ने स्वीकार की है कि नवजात शिशुओं की स्थिति गंभीर थी। सुबह 7 से 8 बचे के बीच चारों की मौत हुई है। लेकिन इसके बाद भी कोई सीनियर डाॅक्टर बच्चों की निगरानी के लिए नहीं पहुँचा। टीम ने रिपोर्ट में इसे शामिल किया है।

यह भी पढ़ें,, Ambikapur: अस्पताल में 4 नवजातों की मौत, बिजली हुई थी बंद, स्वास्थ्य मंत्री सिहदेव ने दिए जांच के निर्देश

इन विषयों पर हुई विशेष जांच
मंत्री टीएस सिंहदेव और डॉ आर प्रसन्ना के हॉस्पिटल निरीक्षण के दौरान ही डॉक्टरों के ड्यूटी रजिस्टर नहीं पाए गए थे जिस पर मंत्री ने नाराजगी जाहिर की थी। इसके अलावा डॉक्टरों की टीम ने SNCU और NICU में रविवार को बिजली बंद होने की जांच भी की है। विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम ने चाइल्ड वार्ड में सफाई स्टाफ नर्सो के ड्यूटी रोस्टर, पीड़ित मरीजों बच्चों की औसत संख्या, डॉक्टरों के ड्यूटी रोस्टर आदि की भी जांच की है। अस्पताल में सफाई के अलावा मेंडीसीन की उपलब्धता की रिपोर्ट भी तैयार की है। इस रिपोर्ट में चारों बच्चों के मेडिकल कंडीशन एडमिट तारीख की विस्तार से जानकारी दी गई है।

4 नवजातों की वेंटिलेटर पर हुई थी मौत
अम्बिकापुर के मेडिकल काॅलेज अस्पताल में 5 दिसम्बर को सुबह सुबह यह घटना सामने आई थी। जिसमें अस्पताल के SNCU और वेंटिलेटर में रखे 4 नवजातों की मौत हो गई थी। इस बीच रविवार - सोमवार की रात बिजली गुल हो जाने की बात सामने आई थी। परिजनों ने बिजली बंद होने कारण बच्चों की मौत होने का आरोप डॉक्टरों पर लगाया था। इसके बाद खबर प्रदेश भर में फैल गई थी। आनन फानन में प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव व स्वास्थ्य सचिव आर प्रसन्ना अस्पताल पहुंचे। और मामले की जांच के निर्देश दिए थे।

Comments
English summary
Ambikapur medical college Case of newborns, the investigation report reached the Health Minister, the doctors may be blamed
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X