बिहार: अपने ही बैंक में फर्जीवाड़ा कर करोड़पति बन गया स्वीपर

Subscribe to Oneindia Hindi

पूर्णिया। जिस बैंक में स्वीपर था उसी बैंक में फर्जीवाड़ा कर करोड़पति बन गया स्वीपर। यह सुनकर जरा अटपटा लग रहा है कि आखिरकार एक स्वीपर कैसे करोड़पति बन सकता है। तो हम आपको बताते चलें कि बैंक मैनेजर और कुछ कर्मचारियों ने मिलकर साजिश के तहत स्वीपर से खाते खुलवाए और करोड़ों रुपए के फर्जी लेन-देने किए। Read Also: जब ATM से निकलने लगा 2 हजार का नकली नोट, कारण जानकर चौंक जाएंगे आप

 

बिहार: अपने ही बैंक में फर्जीवाड़ा कर करोड़पति बन गया स्वीपर

यह मामला बिहार के पूर्णिया जिले के आईसीआईसीआई बैंक का है। जहां के स्वीपर विक्की मल्लिक का नाम सुनते ही बैंक कर्मचारी उस वक्त सोच में पड़ गए जब उन्हें आयकर विभाग के जरिए यह नोटिस मिला। इसके बाद बैंक के दो खातों से करोड़ों रुपए के अवैध लेन देन का मामला सामने आया है। और यह लेनदेन आपके बैंक का विक्की मल्लिक के खाते से किया गया है।

बिहार: अपने ही बैंक में फर्जीवाड़ा कर करोड़पति बन गया स्वीपर

मामले की जानकारी मिलते बैंक के आला अधिकारी उस स्वीपर से पूछताछ करने लगे। मामला करोड़ो रुपए के फर्जीवाड़े की निकासी का था। जिसकी वजह से मौके पर पुलिस भी आ पहुंची। फिर क्या था पुलिस को देखते ही बैंक का स्वीपर घबरा गया और इस फर्जीवाड़े में शामिल लोगों का खुलासा सभी के सामने कर दिया। पूर्णिया जिले के सहायक खजांची थाना क्षेत्र स्थित भट्ठा बाजार के पास आईसीआईसीआई बैंक के स्वीपर विक्की मलिक ने बैंक में हुए इस फर्जीवाड़े की जानकारी देते हुए कहा कि वर्ष 2012 के तत्कालीन मनेजर के कहने पर बैंक में उसका दो फर्जी अकाउंट खोला गया था। जिसमें पिछले तीन वर्षो से कई बार करोड़ो रुपए का लेन-देन किया गया है।

यानी वर्ष 2003 से लेकर 2016 तक मे करोड़ों रुपए के लेन देन के साथ कई बार अकाउंट ट्रांसफर भी किया गया था। इस लेन-देन में बैंक के तत्कालीन मैनेजर पंकज कुमार के साथ कुछ अधिकारी भी शामिल थे। इस बात का खुलासा इनकम टैक्स के नोटिस तथा बैंक स्टेटमेंट के जरिए हुआ है। लेकिन इस मामले की जानकारी स्वीपर विक्की मलिक को नहीं थी। क्योंकि उस वक्त के बैंक मैनेजर पंकज कुमार ने उसके कुछ कागजात वेरीफिकेशन कराने के नाम पर लिए थे तथा साइन भी करवाया था।

जब मोबाइल पर बैंक से लेन देन का मैसेज आने लगा तो उसने बैंक मैनेजर को इस बात की जानकारी भी दी । पर पंकज ने कहा कि उससे कुछ नहीं होगा, ऐसा कह कर कुछ पैसों का लालच देते हुए बात को टाल दिया। लेकिन अब जब आयकर विभाग की नोटिस उसे मिली तो यह मामला सामने आया। फिलहाल इस मामले को सामने आने के बाद नजदीकी पुलिस के साथ-साथ बैंक अधिकारी भी मामले की जांच पड़ताल करने में लगे हैं। Read Also: थाने पहुंची बहनों से दरोगा ने कहा, 'जवानी में यह सब होता है', सस्पेंड

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A sweeper became crorepati doing fraud in ICICI Bank. The income notice served to the sweeper revealed the case.
Please Wait while comments are loading...