जब अस्पताल से सुषमा ने दिलाया छात्रा को वीजा, सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर एक्टिव रहने वाली केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भले ही एम्स में भर्ती हों और इलाज करा रही हों, बावजूद इसके वो लोगों की मदद से पीछे नहीं हट रही हैं।

SUSHMA

छात्रा की वीजा समस्या को सुषमा स्वराज ने किया दूर

ताजा मामला एक भारतीय छात्रा का है जिसने एम्स में भर्ती रहने के दौरान ट्विटर पर सुषमा स्वराज से मदद की गुहार लगाई। भारतीय छात्रा गीता सिंह पीएचडी की छात्रा हैं। उन्हें आस्ट्रेलिया में परीक्षा देने जाना था लेकिन वीजा को लेकर परेशानी आ रही है।

किडनी ट्रांसप्‍लांट के लिए एम्‍स में भर्ती सुषमा स्‍वराज अनोखे अंदाज में कर रही हैं लोगों की मदद

गीता ने 4 दिसंबर को सुषमा स्वराज को ट्वीट किया। जिसमें पीएचडी छात्रा ने बताया कि मैं एम्स में हूं। मैंने 14 नवंबर को वीजा के लिए अप्लाई किया था, 7 दिसंबर को मुझे ऑस्ट्रेलिया में रिसर्च पेपर दाखिल करना है लेकिन समय से वीजा नहीं मिला है। क्या आप जल्द मेरी मदद कर सकती हैं।

गीता के इस ट्वीट पर केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज ने तुरंत जवाब दिया। उन्होंने बताया कि गीता आपको वीजा जारी किया जा चुका है। इससे पहले सुषमा स्वराज ने एक और ट्वीट करके कहा था कि मैं भी एम्स में हूं। आइए और मुझसे मिलिए। जितना हो सकेगा मैं आपकी हरसंभव मदद की कोशिश करूंगी।

अस्पताल में रहकर सुषमा ने दिया जवाब

इसके बाद छात्रा सोमवार यानी 5 दिसंबर उनसे मिलने पहुंची। गीता के ट्वीट पर सुषमा स्वराज ने जिस तरह से प्रतिक्रिया दी। उसकी सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है। ट्विटर यूजर्स उनके इस कदम की सराहना करते नहीं थक रहे हैं।

पाकिस्तान के सरताज अजीज ने बीमार सुषमा स्वराज को गुलदस्ता भेजा

बता दें कि ये कोई पहला मामला नहीं जब सुषमा स्वराज ने इस तरह से एक ट्वीट पर जवाब दिया हो। इससे पहले भी उन्होंने कई जरूरतमंदों की मदद की है।

इससे पहले सुषमा स्‍वराज ने दुबई में फंसे एक भारतीय को लेकर 30 नवंबर को ट्वीट किया और उस भारतीय की समस्‍या को जल्‍द से जल्‍द सुलझाने के लिए कहा। उन्‍होंने इस बावत दुबई में भारतीय एंबेसी से रिपोर्ट भी मांगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sushma Swaraj respond tweet seeking visa from hospital.
Please Wait while comments are loading...