Tap to Read ➤

Covering Head: पूजा के समय क्यों ढका जाता है सिर?

सभी धर्मों में पूजा-पाठ से जुड़े कुछ नियम होते हैं लेकिन एक चीज कॉमन है वो है सिर ढकना ।
Ankur Sharma
चाहे वो मंदिर हो या फिर मस्जिद या फिर गुरूद्वारा..हर जगह आपको सिर ढककर ही पूजा करते लोग नजर आएंगे।
गुरुद्वारे में तो मत्था टेकने से पहले सिर ढंकने के लिए चुन्नी या रूमाल भी दिया जाता है।
मान्यता है जिसको आप आदर देते हैं उनके आगे हमेशा सिर ढक कर जाते हैं।
वैसे इसके पीछे कारण ये है कि सिर ढकने से मन एकाग्र रहता है।
मान्यता ये है सिर ढकने पर दिमाग भटकता नहीं और इंसान का ध्यान केवल एक बिंदु पर ही रहता है।
सिर के मध्य में सहस्त्रारार चक्र होता है जिस पर पूजा करते वक्त निगेटिव चीजों का असर नहीं होना चाहिए इस कारण सिर ढककर पूजा करनी चाहिए।
बालों में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश कर सकती है, निगेटिव एनर्जी से बचने के लिए सिर ढककर पूजा करनी चाहिए।
सिर ढकना केवल महिलाओं के लिए ही जरूरी नहीं होता बल्कि ये पूजा के वक्त पुरुषों पर भी लागू होता है।
क्यों होती है हल्दी की रस्म?