Tap to Read ➤

Ram Van Rajkot: गुजरात में बसी छोटी अयोध्या, यहां की रामायण देखी क्या?

भगवान के मनुष्यावतार 'श्रीराम' के युग की भारतभर में हजारों निशानियां मौजूद हैं। कई स्थानों पर नई प्रतिमाएं भी स्थापित हो रही हैं। गुजरात में उनके नाम पर एक वन तैयार किया गया है- "रामवन"। यहां रामायण की जीवंत झलकियां नजर आएंगी, देखिए
vijay ram
आप यह "रामवन" के दृश्य देख रहे हैं। गुजरात के राजकोट जिले में तैयार किया गया है। यहां श्रीराम के वनवास के समय की घटनाएं दर्शाई गई हैं।
इन झांकियों को देखने पर ऐसा प्रतीत होता है मानो किसी धारावाहिक के शूटिंग-शेट पर आ गए हों।
तरह-तरह के पेड़ पौधों से हरे भरे इस वन में एक कोने पर श्रीराम की 30 फीट ऊंची विशाल प्रतिमा भी स्थापित की गई है, जिसे हवाई सफर के दौरान कई किलोमीटर दूर से ​देखा जा सकता है।
यह जगह गुजरात में राजकोट के अर्बन फॉरेस्ट में है। यहां रामवन को 47 एकड़ यानी 117 बीघा क्षेत्र में तैयार किया गया है।
यहां श्रीराम के जीवन इतिहास से जुड़ी विभिन्न घटनाओं की झांकियां आप सकेंगे। छोटी-बड़ी प्रतिमाओं की सुंदरता के अलावा यहां हरियाली मन मोहती है। पास ही में बड़ा सरोवर है।
अजीदेम के पास किशन गौशाला के सामने तैयार हुए इस वन की एक विशेषता यह है कि यहां पर श्री राम के 14 वर्ष के वनवास की घटनाओं को विशद रूप से दर्शाया गया है।
ऋषियों के योग-अभ्यास की मुद्राओं की मूर्तियां भी यहां रखी गई हैं। वन में भगवान राम के राज्याभिषेक के समय की भी मूर्ति रखी गई है।
यहां एक स्वच्छ झील भी है, जहां श्री राम और तपस्विनी शबरी की प्रतिमाएं है। आश्रम के बगल में एक थिएटर बनाया गया है।
ये भी पढ़िए