• search
वाराणसी न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

सऊदी अरब से वाराणसी आया शव, 'ताबूत' खुला तो परिजनों ने पूछा- यह क्या है? अफसर भी हैरान

सऊदी अरब में मृत व्यक्ति के जगह दूसरे का शव शुक्रवार को वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचा, ताबूत खोलने के बाद परिजनों को जब इसके बारे में जानकारी मिली तो वे शव लेने से इन्‍कार कर दिए
Google Oneindia News

वाराणसी, 01 अक्टूबर : वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर शुक्रवार को एक अजिबो-गरीब मामला देखने को मिला। सऊदी अरब में जिस व्यक्ति की मौत हुई थी, उसकी जगह किसी दूसरे का शव विमान से वाराणसी आ गया। ताबूत खोलकर परिजनों ने जब देखा तो हैरान रह गए। उसके बाद परिजन शव लेने से इन्का‍र कर दिए। मध्य रात्रि तक एयरपोर्ट पर शव लेकर परिजन वापस करने के लिए अड़े रहे। बाद में शव को शिवपुर मोर्चरी में रखवाया गया। विमान से मृतक की जगह किसी दूसरे का शव आने का मामला सुनकर अधिकारी भी हैरान हैं।

25 सितंबर को बीमारी से हुई थी मौत

25 सितंबर को बीमारी से हुई थी मौत

चंदौली जिले के सिकंदरपुर के रहने वाले जावेद अहमद इद्रीशी पिछले छह वर्षों से सऊदी अरब की एक टेक्नोलॉजी कंपनी में मार्केटिंग ऑफिसर के पद पर तैनात थे। परिजनों ने बताया कि पिछले सप्‍ताह एकाएक उनकी तबीयत खराब हो गई। कंपनी के लोगों द्वारा सऊदी अरब में ही अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान सऊदी अरब में ही इद्रीशी की मौत हो गई। मौत के बाद शुक्रवार को मृतक का शव सऊदी अरब से दिल्ली लाया गया और फिर दिल्ली से इंडिगो एयरलाइंस का विमान शव ले कर शुक्रवार सायं 4:30 बजे वाराणसी एयरपोर्ट पर पहुंचा।

परिजन और रिश्तेदार बहनोई लेने पहुंचे थे शव

परिजन और रिश्तेदार बहनोई लेने पहुंचे थे शव

मृतक के परिजन और रिश्तेदार उसका शव लेने के लिए शुक्रवार को दोपहर में ही वाराणसी एयरपोर्ट पहुंच गए थे। सायं 4:30 बजे विमान आने के बाद कार्गो टर्मिनल में जांच पड़ताल करने के उपरांत शव परिजनों को सौंपा गया। परिजन कार्गो टर्मिनल से बाहर निकले और ताबूत खोल कर देखे तो अवाक रह गए। ताबूत में इद्रीशी की जगह किसी दूसरे का शव रखा गया था। परिजन शव लेकर वापस काउंटर पर गए। दूसरा शव आने की बात सुनकर अधिकारी भी हैरान रह गए।

रात 11:30 बजे तक एयरपोर्ट पर रहे परिजन

रात 11:30 बजे तक एयरपोर्ट पर रहे परिजन

अधिकारियों को सूचना देने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हुई। वहीं एयरलाइंस द्वारा कहा गया कि जो ताबूत उन्हें उपलब्ध कराया गया उसे ही लाया गया है। ऐसे में परिजन कार्गो टर्मिनल में हंगामा करने लगे। रात तक कोई अधिकारी नहीं पहुंचा, हालांकि रात 11:30 बजे बड़ागांव पीएचसी के प्रभारी एंबुलेंस लेकर वहां पहुंचे। काफी देर तक परिजनों को समझाए उसके बाद परिजनों ने शव उन्‍हें सौंपा और शव को लेकर शिवपुर मोर्चरी में रखवाया गया।

दूसरे का शव लेकर क्या करेंगे

दूसरे का शव लेकर क्या करेंगे

दूसरे का शव मिलने के बाद परिजनों ने अधिकारियों को फोन करके शिकायत किया कि किसी दूसरे का शव लेकर वे क्‍या करेंगे। जिस व्यक्ति का शव वाराणसी आया है उसके परिजन भी उसका इंतजार कर रहे होंगे, ऐसे में शव वापस लिया जाए और मृतक के परिजनों को सौंपा जाए। वहीं इद्रीशी का शव कहां है इसके बारे में पता लगाने के साथ ही उसे मंगवाया जाए। इस बारे में दूतावास द्वारा ट्वीट कर बताया गया कि कारणों का पता लगाने की कोशिश की जा रही है और इस मामले में संबंधित कार्गो एजेंट से रिपोर्ट भी प्राप्त किया जा रहा है। जल्द ही परिवार से संपर्क किया जाएगा।

वाराणसी : नवजात शिशु का DNA टेस्ट कराना चाहते हैं पैरेंट्स, वजह जानकर हैरान रह जाएंगेवाराणसी : नवजात शिशु का DNA टेस्ट कराना चाहते हैं पैरेंट्स, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे

Comments
English summary
The body of another came from Saudi Arabia instead of the deceased
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X