• search
उत्तराखंड न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

चुनाव से पहले उत्तराखंड में 200 से ज्यादा निष्कासितों की होगी बीजेपी में घर वापसी, जानिए क्या रखी है शर्त

|
Google Oneindia News

देहरादून, 13 सितंबर। उत्तराखंड में सत्ता में दोबारा काबिज होने और इतिहास रचने के लिए बीजेपी हर तरह से रणनीति पर फोकस कर रही है। इसके लिए दूसरे दलों के दिग्गजों को अपने पाले में लाने के साथ ही पार्टी ने अपने ही पुराने कार्यकर्ताओं जो निष्कासित किए गए थे, वापस लाने के लिए दरवाजे खोल दिए हैं। हालांकि बीजेपी ने अपने निष्कासितों को पार्टी में आने के लिए किसी भी तरह की शर्त मानने से इनकार कर दिया है। साफ है कि पार्टी ऐसे कार्यकर्ताओं को वापसी तो करा रही है लेकिन किसी तरह की अहम जिम्मेदारी नहीं देगी।

Before the elections in Uttarakhand, more than 200 expelled people will return home in BJP, know what is the condition

बिना शर्त के होगी वापसी
विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी भाजपा ने भी निष्कासितों के लिए दरवाजे खोल दिए हैं। पिछले वर्षों में विभिन्न कारणों निष्कासित हुए करीब 200 नेताओं को पार्टी बिना सशर्त वापस लेगी। पार्टी सूत्रों का दावा है कि पार्टी में शामिल होने वाले नेताओं को कम से कम दो साल तक पार्टी का कोई पद नहीं दिया जाएगा। राज्यसभा सांसद नरेश बंसल की अध्यक्षता में गठित कमेटी वापसी करने के इच्छुक नेताओं की समीक्षा कर रही है। जल्द ही कुछ नेताओं को वापसी करा ​दी जाएगी। पार्टी चुनाव से पहले अपना जनाधार बढाना चाहती हैा इसके लिए पुराने कार्यकर्ताओं को जोडा जा रहा हैा हालांकि पार्टी वापसी करने वाले नेताओं को ये संदेश भी देना चाहती है कि अब पार्टी के अंदर उनके सुर नरम ही रहने चाहिएा इसलिए पार्टी ने उन्‍हें बिना शर्त के वापस लेने की हामी भरी हैा

पहले हुए थे बागी, अब पार्टी लगाएगी गले
चुनाव आते ही राजनीतिक दलों का रुख उन लोगों के प्रति नरम हो गया है जिन्हें अनुशासनहीनता के कारण बेहद सख्त अंदाज में पार्टी से हटा दिया था। कांग्रेस ने पूर्व सीएम हरीश रावत को ऐसे कार्यकर्ताओं और नेताओं को वापसी के लिए बनाई गई समिति की जिम्मेदारी सौंपी है। इसके लिए आवेदन भी मांगे जा रहे हैं। कांग्रेस के बाद अब बीजेपी ने भी ऐसे सभी निष्कासितों के लिए पार्टी ने अपने दरवाजे खोल दिए हैं। पार्टी स्थानीय निकायों, पंचायती राज संस्थाओं, विधानसभा व लोकसभा चुनाव में निष्कासितों को शामिल कराने जा रही है। ये सभी नेता चुनावों में बीजेपी के खिलाफ बगावत कर चुके हैा लेकिन अब पार्टी चुनाव से पहले इन सभी को गले लगाकर अपना जनाधार मजबूत करना चाहेगाा

200 लोगों को लिस्ट तैयार

राज्‍यसभा सांसद एवं समिति के अध्यक्ष नरेश बंसल ने कहा है कि जो लोग संगठन की रीति-नीति के अनुरूप पार्टी में आना चाहते हैं, उनका स्वागत है। बड़ी संख्या में लोग पार्टी में आने को तैयार हैं। लोग भी आ भी रहे हैं। निष्कासितों में कुछ लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी में शामिल हुए थे। बाकी गए लोगों को भी पार्टी में शामिल किया जा रहा है। पार्टी से निष्कासित करीब 200 लोगों की सूची तैयार हो चुकी है। पार्टी में निष्कासितों को बिना शर्त शामिल किया जाएगा। उन्हें एक से दो साल तक संगठन में कोई पद भी नहीं दिया जाएगा। इसके अलावा ऐसे नेताओं को पार्टी में शामिल नहीं किया जाएगा, जो गंभीर आपराधिक आरोप हों। इस तरह से बीजेपी अपने पुराने चेेहरों को वापसी कराने के लिए अपनी शर्त रख रही हैा

ये भी पढ़ें- चुनाव से पहले हरीश रावत ने की अपने उत्तराखंडियत मॉडल की तारीफ, गुजरात, दिल्ली मॉडल बताया फेलये भी पढ़ें- चुनाव से पहले हरीश रावत ने की अपने उत्तराखंडियत मॉडल की तारीफ, गुजरात, दिल्ली मॉडल बताया फेल

English summary
Before the elections in Uttarakhand, more than 200 expelled people will return home in BJP, know what is the condition
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X