• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

Fifa World Cup 2022 : मेसी, रोनाल्डो, एमबाप्पे- फुटबॉल के 3 सुपर स्टार

Google Oneindia News

कतर में खेले जा रहे विश्वकप में फुटबॉल का रोमांच चरम पर है। उलटफेर वाले कई रोमांचक मैच हुए। लियोनेल मेसी, क्रिस्टियानो रोनाल्डो और किलियन एमबाप्पे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ स्ट्राइकर में शुमार हैं। खेलप्रेमियों की इन पर खास नजर है। ये तीनों अपनी टीम के कर्णधार हैं। इनके प्रदर्शन पर ही इनके टीम का भविष्य टिका है। पहले राऊंड के खेल में ये तीनों अब पूरी तरह लय में आ गये हैं। लियोनेल मेसी के जबर्दस्त खेल से अर्जेंटीना ने मैक्सिको को 2-0 से हरा दिया जिससे उसके अंतिम 16 में जाने की उम्मीद बची हुई है। फ्रांस के फॉरवर्ड एमबाप्पे ने डेनमार्क के खिलाफ दो गोल कर अपनी टीम को जीत दिला दी। फ्रांस के छह अंक हो गये। इस तरह विश्वचैम्पियन फ्रांस अंतिम 16 में जगह बनाने वाला पहला देश बन गया। पुर्तगाल के रोनाल्डो ने घाना के खिलाफ अपने नाम के अनुरूप खेल दिखाया। पहला गोल रोनाल्डो ने किया। पुर्तगाल ने घाना को 3-2 से हराया।

FIFA World cup 2022

मेसी का मैजिक

अर्जेंटीना-मैक्सिको मैच का 64वां मिनट। अर्जेंटीना ने दाएं फ्लैंक से एक मूव बनाया। हाफलाइन से डिगोरियो के पास गेंद पहुंची। डिगोरियो ने मेसी की तरफ पास बढ़ाया। मेसी उस समय मैक्सिको के पेनल्ट बॉक्स से करीब सात-आठ गज दूर बिल्कुल बीच में खड़े थे। उनके आसपास मैक्सिको के डिफेंडर जमे हुए थे। मौक्सिको का गोल वहां से करीब 25 गज दूर था। मेसी विपक्षी खिलाड़ियों से घेरे हुए थे। हालात को भांप कर उन्होंने ड्रिब्लिंग की कोशिश नहीं की। वहीं से एक बेहद जोरदार किक लगायी जो मैक्सिको के रक्षकों को चीरती हुई सीधे गोल में समा गयी। मेसी ने इतनी दूरी से इतना शक्तिशाली शॉट लगाया कि मैक्सिको के गोलकीपर चाह कर भी कुछ नहीं कर सके। 25 गज की दूरी से गोल करना एक करिश्मा था । मेसी ऐसे ही करिश्मे के लिए तो विख्यात हैं।

मेसी हैं तो उम्मीदें जिंदा हैं

इस गोल ने अर्जेंटीना में जोश भर दिया। उनके खिलाड़ियों को एहसास हुआ कि मेसी हैं, तो उम्मीदें जिंदा हैं। इसके बाद एंजो फर्नांडीस ने अर्जेंटीना के लिए दूसरा गोल किया। इस तरह मैक्सिको 2-0 से हार गया। अर्जेंटीना के प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीदें कायम रहीं। पूर्व विश्वविजेता अर्जेंटीना अपना पहला मैच सऊदी अरब से हार गया था। इस मैच में भी मेसी ने पहला गोल किया था लेकिन टीम आखिरकार 1-2 से हार गयी थी। इसकी वजह से मेसी की काफी आलोचना हुई थी। कुछ आलोचक ये कहने लगे थे कि मेसी अब उम्रदराज हो गये हैं जिससे वे अपनी चमक खोते जा रहे हैं। अर्जेंटीना के दूसरे राउंड में जाने पर संदेह व्यक्त किया जाने लगा था। लेकिन मेसी ने दिखा दिया कि दुनिया में उनका आखिर क्यों इतना नाम है। मेसी के लिए शायद ये आखिरी विश्वकप है। वे इस प्रतियोगिता में जरूर यागदार प्रदर्शन करना चाहेंगे।

किलियन एमबाप्पे के दो मैच से 3 गोल

किलियन एमबाप्पे की उम्र 23 साल है और वे फ्रांस के चर्चित फॉरवर्ड हैं। उन्होंने डेनमार्क की मजबूत टीम के खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन किया। फ्रांस ने यह मैच 2-1 से जीता जिसमें दोनों गोल एमबाप्पे के थे। एमबापे ने कई बार अकले ही मूव बनाने की कोशिश की लेकिन पहले हाफ में कोई गोल नहीं हुआ। 61वें मिनट में फ्रांस के लेफ्ट विंगर ने डेनमार्क के पेनल्टी बॉक्स में एक शानदार क्रॉस पास दिया। एमबाप्पे को दो पिपक्षी खिलाड़ियों घेरे हुए थे। लेकिन इसके बावजूद एमबाप्पे ने दोनों के बीच से एक आसान शॉट गोल में मारा जो बिल्कुल निशाने पर बैठा। फ्रांस अगर दुनिया की चौथे नम्बर की टीम है तो डेनमार्क भी दसवें नम्बर पर मौजूद है। वह कोई कमजोर टीम नहीं है। उसने जल्द ही जवाबी हमला बोला। 68वें मिनट मे अंद्रे क्रिस्टेन्सेन ने अपनी टीम के लिए पहला गोल कर मैच का स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया। ये गोल कॉर्नर शॉट पर हेडर से आया।

आखिरी लम्हों में एमबाप्पे का शानदार प्रदर्शन

इसके बाद डेनमार्क ने जबर्दस्त खेल दिखाया। उसने फ्रांस की एक न चलने दी। लेकिन एमबाप्पे ने डेनमार्क की मजबूत दीवार में एक बार फिर सेंध लगायी। मैच का आखिरी लम्हा चल रहा था। फ्रांस के दाएं फ्लैंक से मूव बना। एमबाप्पे डेनमार्क के गोल के बिल्कुल बाएं छोर पर मोर्चा संभाले हुए थे। उन्हें एक क्रॉस पास मिला। गेंद हवा में तैरती हुई उनकी तरफ आ रही थी। गेंद की ऊंचाई कुछ कम थी। हेडर लेने का मौका नहीं था। इसलिए उन्होंने अपनी छाती से गेंद को गोल में रिफ्लेक्ट कर दिया। एमबाप्पे ने इस मैच में दूसरा और विजयी गोल किया। ये गोल 86वें मिनट में आया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ फ्रांस 4-1 से जीता था जिसमें एमबाप्पे ने एक गोल किया था।

क्रिस्टियानो रोनाल्डो का कारनामा

पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो दुनिया के पहले ऐसे खिलाड़ी बन गये हैं जिन्होंने पांच अलग-अलग विश्वकप में टीम के लिए गोल किये हैं। वे 2006, 2010, 2014, 2018 और 2022 के विश्वकप में खेले और सभी में गोल किये। उन्होंने पेले समेत अन्य महान खिलाड़ियों को पीछे छोड़ दिया। उनके नाम पर अनगिनत रिकॉर्ड दर्ज हैं। वर्ल्डकप में उन्होंने अभी तक 8 गोल किये हैं। ये आंकड़ा बढ़ सकता है क्यों कि उन्हें अभी और मैच खेलने हैं। उनकी उम्र अब 37 साल की हो चुकी है लेकिन आज भी टीम उन्हीं पर सबसे अधिक भरोसा करती है। विश्वकप प्रतियोगिता में पुर्तगाल ने गुरुवार को घाना को हराया। ये मुकाबला 3-2 से पुर्तगाल के नाम रहा। पुर्तगाल के लिए पहले गोल क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने पेनल्टी किक से किया। ये गोल 65वें मिनट में आया था। इसके बाद फेलिक्स और राफेल ने दूसरा और तीसरा गोल किया। पहला हाफ बहुत धीमा रहा था। लेकिन दूसरे हाफ में खेल बहुत तेज हो गया। पुर्तगाल ने 15 मिनट के अंदर ही 3 गोल दाग दिये। घाना वर्ल्ड रैंकिंग 61 है लेकिन उसने पुर्तगाल को पानी पीला दिया। घाना के कप्तान आंद्रे आयेव ने 73वें मिनट में टीम का पहला गोल किया। फिर 89वें मिनट उस्मान बुखारी ने घाना के लिए दूसरा गोल किया। इस मैच में रोनाल्डो दो गोल और कर सकते थे लेकिन अंतिम मौके पर वे चूक गये।

फीफा वर्ल्ड कप 2022 से जुड़े कुछ बड़े विवाद जिनके बारे में आपको जानना चाहिएफीफा वर्ल्ड कप 2022 से जुड़े कुछ बड़े विवाद जिनके बारे में आपको जानना चाहिए

Comments
English summary
FIFA World Cup 2022: Messi, Ronaldo, Mbappe these three Superstars of Football
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X