India
  • search
राजकोट न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

कार के VIP नंबर के लिए लगाई 19 लाख की बोली, पसंद का मिला तो RTO ने कहा- गुजराती में नहीं लगा सकते

|
Google Oneindia News

राजकोट। गुजरात में राजकोट के एक बिल्डर ने कार के वीआईपी नंबर के लिए 19 लाख रुपये खर्च कर दिए। उसने आरटीओ में 19 लाख की बोली लगाकर 0007 नंबर लिया। मगर, उसके सपनों पर तब पानी फिर गया जब आरटीओ की तरफ से यह बताया गया कि वह इसे वह कार के बोनट पर गुजराती में नहीं लिखवा सकते। जबकि, बिल्डर 7 को गुजराती में लिखना चाहता था, क्योंकि गुजराती में 7 गणेश भगवान जैसा दिखता है।

Builder Spends 19 Lakhs For Vip Number For A Car In Gujarat

संवाददाता के अनुसार, जब बिल्डर को पता चला कि कार के वीआईपी नंबर के लिए 19 लाख रुपए की बोली व्यर्थ होगी तो उसे धक्का पहुंचा। दरअसल, आरटीओ ने यह स्पष्ट कर दिया कि नियमों के मुताबिक गुजराती में नहीं लिख सकते। गुजरात में पहली बार किसी ने इतनी बड़ी रकम को कार का पसंदीदा नंबर लेने के लिए खर्च किया था।

उक्त बिल्डर की पहचान गोविंद प्रसन्ना के रूप में हुई है। गोविंद प्रसन्ना ने अपनी गाड़ी की कीमत का लगभग 33% सिर्फ उसके नंबर के लिए खर्च कर दिया, मगर अभी तक उन्हें इसका पूरा फायदा नहीं मिला है। बताया जाता है कि उसने अपनी पिछली 3 गाड़ियों के लिए भी ऐसा ही नंबर लिया था। मगर, इस बार वह वीआईपी नंबर (7) लेकर भी खुश नहीं हैं।

यह भी पढ़ें: घर से तालाब में कपड़े धोने आई थीं 3 बहनें, 1 डूबने लगी तो 2 बचाने कूद गईं, तैराक 1 को ही बचा पाएयह भी पढ़ें: घर से तालाब में कपड़े धोने आई थीं 3 बहनें, 1 डूबने लगी तो 2 बचाने कूद गईं, तैराक 1 को ही बचा पाए

Comments
English summary
In gujarat, Mercedes owner pays Rs 19 Lakhs for No 7
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X