• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

जीजा ने मानी साली की ये बात तो पंचायत ने लगा दिया 11 लाख का जुर्माना, परिवार का हुक्का-पानी भी बंद

|

जैसलमेर। रामगढ़ में जातीय पंचों द्वारा एक परिवार को समाज से बहिष्कृत कर उनका हुक्का पानी बन्द करने का मामला सामने आया है, जिससे दुखी होकर परिवार सामूहिक आत्महत्या करने की बात कह रहा है। इस संबंध में परिवार ने ​कलेक्टर-एसपी को ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग की है।

Jaisalmer Ramgarh Khap panchayat fined 11 lakhs on a Man

खाप पंचायत ने 2014 में लगाया जुर्माना

जानकारी के जैसलमेर जिले के रामगढ़ मेघवाल पाड़ा निवासी भैराराम पुत्र फकीरा राम के खिलाफ जुलाई 2014 में खाप पंचायत बुलाई गई थी, जिसमें उस पर जातीय पंचों ने 11 लाख रुपए का जुर्माना लगाया। जातीय पंचों का उस परिवार पर लगातार दबाव बढ़ रहा था, जिससे मजबूर होकर उस परिवार को खाप पंचायत की बात माननी पड़ी।

<strong>ये भी पढ़ें : जब करोड़ों रुपए के नोटों पर एक साथ छापा गया भारत और पाकिस्तान का नाम, जानिए क्यों?</strong>ये भी पढ़ें : जब करोड़ों रुपए के नोटों पर एक साथ छापा गया भारत और पाकिस्तान का नाम, जानिए क्यों?

आरोप है कि जातीय पंचों के दबाव में आकर भैराराम ने उसी माह दण्ड की कुल राशि में से पांच लाख रुपए एक जातीय पंच को सौंप दिए। इसके बाद पंचों ने फरमान सुनाया कि पूरे पैसे नहीं भरने तक यह परिवार समाज से बहिष्कृत रहेगा तथा इनका हुक्का पानी बन्द रहेगा।

झुठे अपहरण के मामले में फंसाया

भैराराम पुत्र फकीराराम ने जैसलमेर जिला कलेक्टर व जैसलमेर पुलिस अधिक्षक को ज्ञापन सौंपकर न्याय की गुहार लगाई है। भैराराम ने बताया कि उसकी साली सुमित्रा ने उसका स्वास्थ्य ठीक नहीं होने का कहकर उपचार के लिए गुजरात के डीसा साथ चलने की बात कही। पारिवारिक सदस्य होने के नाते वह साली के साथ डीसा चला गया था, लेकिन सुमित्रा ने यह बात घरवालों को बताई या नहीं उसकी जानकारी उसे नहीं थी।

<strong>ये भी पढ़ें : 22 साल ​की विवाहिता से गैंगरेप, टाइम पास के लिए आरोपी से फोन पर करती थी बात </strong>ये भी पढ़ें : 22 साल ​की विवाहिता से गैंगरेप, टाइम पास के लिए आरोपी से फोन पर करती थी बात

उनके जाने के बाद सुमित्रा के घरवालों ने भैराराम के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज करा दिया और रामगढ़ पुलिस उसे डीसा से गिरफ्तार कर थाने ले आई। बाद में न्यायालय ने उसे न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया। जातीय पंचों ने झुठे मुकदमे में राजीनामा करने के लिए भैराराम पर 11 लाख का दंड लगा दिया। पांच लाख रुपए दण्ड स्वरूप भरवाए और बाकि दण्ड नहीं भरने तक समाज से बहिष्कृत कर हुक्का पानी बन्द करने का फरमान सुना दिया।

सामूहिक आत्महत्या की धमकी

भैराराम व उसके पिता फकीराराम मेघवाल ने बताया कि उनका परिवार आर्थिक रूप से कमजोर है। खाप पंचायत द्वारा जो राशि दण्ड के रूप में भरने के लिए कहा गया है वो राषि भरने में असमर्थ है। जातीय पंचों के फरमान के बाद भैराराम के पिता फकीराराम को दिल का दौरा पड़ गया था, जिसका उपचार चल रहा है। जातीय पंचों ने उस परिवार पर समाज में किसी भी सामाजिक कार्यक्रम में जाने पर रोक लगा रखी है, जिससे यह परिवार सामाजिक व मानसिक रूप से उत्नीड़न का शिकार हो रहा है।

<strong>Kota Flood: चबंल नदी में बहे मां-बेटा, 18 किमी दूर मिला बेटे का शव, मां का तीसरे दिन भी सुराग नहीं</strong>Kota Flood: चबंल नदी में बहे मां-बेटा, 18 किमी दूर मिला बेटे का शव, मां का तीसरे दिन भी सुराग नहीं

भैराराम ने बताया कि इस संबंध में पूर्व में रामगढ़ थाने में रिपोर्ट दी गई थी लेकिन पंचों द्वारा राजनैतिक दबाव बनाकर मुकदमा दर्ज होने ही नहीं दिया। पिछले पांच वर्षों से उनका परिवार मानसिक रूप से परेशान है और कभी भी सामूहिक रूप से आत्महत्या कर सकता है। भैराराम ने जातीय पंचों द्वारा दण्ड स्वरूप ली गई राशि ब्याज सहित दिलाने की जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन से गुहार लगाई है। पीड़ीत परिवार ने पचास से अधिक पंचों के खिलाफ पुलिस थाने में परिवाद दिया है।

English summary
Jaisalmer Ramgarh Khap panchayat fined 11 lakhs on a Man
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X