शर्मनाक: मदरसे में 10 साल के बच्चे को जंजीर से बांधकर तीन दिनों तक दी गईंं यातनाएं

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

मुजफ्फरनगर। मदरसे में तालीम लेने गए एक बच्‍चे के साथ हैवानियत का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जी हां यहां के रतनपुरी थानाक्षेत्र में स्थित शाह-एह-उल्लाह मदरसे में एक 10 वर्षीय छात्र को तीन दिन तक जंजीर में बांधकर रखा गया। दरअसल बच्‍चे का मन मदरसे में नहीं लग रहा था और वो वहां से भागना चाहता था। वहीं परिजनों का कहना है कि नशे की लत छुड़ाने और भागने से रोकने के लिए उसके साथ ऐसा किया गया।

हैवानियत: टीचर ने किया ऐसा टॉर्चर, स्‍टूडेंट हो गया गूंगा और मार गया लकवा

Student kept bound with chains in Muzaffarnagar Madarsa
 

जानकारी के मुताबिक मंगलवार सुबह आठ बजे गांव फुलत में ग्रामीण रजवाहा के पास सुबह की सैर को जा रहे थे। यहां 10 वर्षीय बालक के दोनों पैरों में जंजीर बंधी देखी तो चौंक गए। पूछताछ में उसने अपना नाम शाहवेज पुत्र मुरसलीन निवासी नावला बताया। उसने बताया कि वह फुलत के मदरसा शाह एह उल्लाह में इसी 4 दिसंबर को ही दाखिला हुआ है। उसे मदरसे में तीन दिन से जंजीर से बांधकर रखा गया और पिटाई भी की गई।

उसने ग्रामिणो को बताया कि वह रजवाहे में कूदकर आत्महत्या करने जा रहा है। लोग उसे फुलत ले गए और परिजनों को सूचना दी। परिजन छात्र को मदरसे लेकर पहुंचे। लोगों की सूचना पर रतनपुरी थाना पुलिस ने मदरसे पहुंच कर मामले की जानकारी ली। मुरसलीन ने पुलिस को बताया कि उनका बेटा गलत संगत में पड़कर नशा करने लगा था। कभी-कभी वह घर से भाग जाता है। चार दिसंबर को उसका मदरसे में दाखिला कराया गया। यहां से भी उसने कई बार भागने की कोशिश की। उन्होंने ही मदरसे के शिक्षक से उसे बांधकर रखने को कहा था।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
10 year's old student kept bound with chains in Muzaffarnagar Madarsa.
Please Wait while comments are loading...