• search
लखनऊ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

योगी सरकार में कोरोना किट घोटाला: एसआईटी कर रही जांच, विरोधी हुए हमलावर

|

लखनऊ। एक तरफ उत्तर प्रदेश कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों से जूझ रहा है तो दूसरी तरफ कोरोना किट में घोटाला सामने आने से राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इस पर हमला बोलते हुए ट्विटर पर लिखा कि कोरोना आपदा के समय जहां लाखों लोगों की रोजी रोटी को खतरा है उस समय यूपी सरकार के अफसरों ने करोड़ों का वारा-न्यारा कर दिया। घोटाले में बताया जा रहा है सुल्तानपुर, गाजीपुर समेत अन्य जिलों में प्रशासन ने कीमत से बहुत अधिक कीमत देकर कोरोना किट्स खरीदे। इस मामले की जांच योगी सरकार एसआईटी से करा रही है और दो अफसरों पर गाज गिराते हुए उनको सस्पेंड कर दिया है।

सुल्तानपुर भाजपा विधायक ने बताया- घोटाला हुआ

सुल्तानपुर भाजपा विधायक ने बताया- घोटाला हुआ

सुल्तानपुर के भाजपा विधायक देवमणि त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस घोटाले को लेकर पत्र लिखा था। उन्होंने जिला प्रशासन पर पल्स ऑक्सीमीटर और थर्मल स्कैनर खरीदने में घोटाला करने का आरोप लगाया। आरोपों पर डीएम सी इंदुमति ने कहा कि मुझ पर गलत आरोप लगाए जा रहे हैं, विधायक ने इस बारे में मुझसे बात भी नहीं की और न ही उन्होंने तथ्यों के बारे में सीडीओ से पूछा। डीएम ने विधायक के आरोपों को जिला प्रशासन की छवि खराब करने की साजिश बताया। योगी सरकार ने मामले की जांच के लिए मुख्य सचिव राजस्व की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया है। मामले पर प्रदेश की राजनीति गरमाई हुई है और विरोधियों ने योगी सरकार पर हमला बोला है।

    Coronavirus: यूपी में Corona Kit Scam, CM Yogi ने जांच के लिए बनाई SIT | वनइंडिया हिंदी
    आप नेता संजय सिंह ने कहा- यूपी के 65 जिलों का घोटाला

    आप नेता संजय सिंह ने कहा- यूपी के 65 जिलों का घोटाला

    आप नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस घोटाले को लेकर योगी सरकार पर हमला बोला। संजय सिंह ने कहा कि प्रदेश के 65 जिलों में यह घोटाला हुआ है और एक भी एफआईआर दर्ज नहीं की गई। कहा कि यह यह असंभव है कि रोजाना 11 बजे टीम 11 की बैठक कर रहे सीएम योगी आदित्यनाथ को थर्मामीटर-ऑक्सीमीटर के रेट न बताए गए हों? ट्वीट कर लिखा कि यूपी के अस्पतालों में मेडिकल उपकरण सप्लाई करने वाली, राज्य स्तरीय सरकारी संस्था, यूपी मेडिकल सप्लाई कारपोरेशन ने ऑनलाइन 1800 रु में मिलने वाले थर्मामीटर को पूरे 5200 रु में खरीदा है और ऑनलाइन 800 रु में मिलने वाले ऑक्सीमीटर के लिए 1,300 रु चुकाए हैं। उन्होंने कहा कि 65 जिलों में हुए इस घोटाले में पंचायत के उच्चस्तरीय अधिकारी, नेता शामिल हैं।

    प्रियंका गांधी ने कहा- घोटालेबाजों को बचा रही सरकार

    प्रियंका गांधी ने कहा- घोटालेबाजों को बचा रही सरकार

    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी ट्विटर पर लगातार योगी सरकार पर इस घोटाले को लेकर निशाना साध रही हैं। उन्होंने लिखा कि क्या पंचायत चुनावों के साल में जिले--जिले वसूली केंद्र बना दिए गए हैं? पीपीई किट घोटाला, बिजली घोटाला, कोरोना किट घोटाला का जिक्र करते हुए उन्होंने लिखा कि पहले घोटाला फिर सख्ती का नाटक और फिर घोटाला दबाना। सवाल ये है कि क्या प्रदेश सरकार की रुचि हर बार घोटालेबाजों को बचाने की होती है? यूपी के लगभग सभी जिलों में कोरोना किट घोटाला हुआ है। कोरोना आपदा के समय जब लाखों लोगों की रोजी-रोटी पर खतरा है, उस समय प्रदेश सरकार के अफसरों ने करोड़ों का वारा-न्यारा कर दिया।

    कांग्रेस का लखनऊ में प्रदर्शन

    कांग्रेस का लखनऊ में प्रदर्शन

    शनिवार को लखनऊ में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने योगी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। कोरोना किट घोटाले को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ता विधानसभा घेराव करने जा रहे थे कि गांधी प्रतिमा के पास पुलिस फोर्स ने उनको रोक लिया। पुलिस और प्रदर्शनकारियों में बहस भी हुई। पुलिस प्रदर्शनकारियों को बसों में भरकर ले गई। इस दौरान लखनऊ-चारबाग रोड जाम हो गया जिसे पुलिस ने किसी तरह खुलवाया। प्रदर्शनकारी हाथों में सरकार विरोधी नारे लिखी हुई तख्तियां लिए हुए थे और नारे लगा रहे थे। इस दौरान कोरोना काल के नियमों का उल्लंघन भी हुआ और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई गईं।

    मलिहाबाद की घटना का सीएम योगी आदित्यनाथ ने लिया संज्ञान, कहा- अपराधियों पर लगाएं NSA

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Coronavirus kits scam in UP Yogi govt facing bitter criticism
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X