• search
जोधपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

आत्‍मनिर्भर गांव रायमलवाड़ा ने फिर रचा इतिहास, 500 ग्रामीणों ने चंद घंटे में साफ कर दी 260 बीघा गोचर भूमि

|
Google Oneindia News

जोधपुर, 17 अगस्‍त। चारागाह विकास के लिए राजस्थान में आत्‍मनिर्भर बना जोधपुर जिले की बापिणी तहसील के रायमलवाड़ा गांव के सेवण घास प्रोजेक्ट ने फिर इतिहास रच दिया। बुधवार को गांव रायमलवाड़ा में सामूहिक लाह का आयोजन किया गया, जिसमें 500 ग्रामीणों ने सेवण घास प्रोजेक्ट में 260 बीघा गोचर भूमि की सफाई कर दी। इसमें उन्‍होंने खरपतवार ( बिलायती बबूल, बिपने/ बिवने, सोनामुखी ) निकाले। सामूहिक लाह के दौरान विभिन्न व्यवस्थाओं जैसे चाय-पानी,नाश्ता, भोजन, डीजे, ड्रोन कैमरा की दानदाताओं के सहयोग से की गई।

Raimalwada village

निजी कार्यों के लिए तो पूर्व में भी लाह का आयोजन होता रहा है, परंतु सार्वजनिक कार्य हेतु इस तरह की पहली लाह का आयोजन सेवण घास प्रोजेक्ट रायमलवाड़ा में देखने को मिला, जिसमें सैकड़ों ग्रामीण सामूहिक सहयोग की भावना का नजारा पेश किया।

बता दें कि लाह मारवाड़ में आयोजित होने वाली एक ऐसी परम्परा है, जिसमें पारस्परिक सामूहिक सहयोग देखने को मिलता है। लाह में ग्रामीण सामूहिक रूप से किसी किसान के कृषि कार्यों में निःशुल्क रूप से हाथ बंटाते हैं,परंतु रायमलवाड़ा में आयोजित हुई लाह में ग्रामीणों ने सार्वजनिक रूप से गौचर भूमि, व चारागाह विकास लिए स्पेशल लाह का आयोजन किया।

गांव रायमलवाड़ा की पूरी कहानी यहां पढ़ें गांव रायमलवाड़ा की पूरी कहानी यहां पढ़ें

रायमलवाड़ा के ग्रामीणों द्वारा इससे पूर्व में भी सामूहिक सहयोग के अनेक कार्य कर चुके हैं, जिसमें मुख्य रूप से चाहे गांव को नशामुक्त बनाना हो या हजारों बीघा गौचर भूमि से बबूल की झाड़ियों का सफाया करना हो या सैकड़ों ट्रैक्टरों द्वारा कुछ ही घण्टों में सैकड़ों बीघा गौचर भूमि की खड़ाई कर सेवण घास लगाना हो।

इस सामूहिक लाह में रायमलवाड़ा कॉपरेटिव अध्यक्ष बाबूराम जान्दू, गोशाला अध्यक्ष बजरंग जोशी, सचिव मेघाराम कड़ेला, पूर्व सरपंच मांगाराम जान्दू, राजस्थान गोसेवा समिति जिलाध्यक्ष हरिनारायण सोनी, तहसील अध्यक्ष नरपत सिंह खेताणी, जाखण के पूर्व सरपंच प्रकाश व्यास , नटवरलाल थानवी, बापिणी विकास अधिकारी मांगीलाल नायल,पंचायत समिति सदस्य मोहन राम जान्दू, खींव सिंह,भीम सिंह, पन्नाराम गोदारा, डूंगर राम थोरी, सूबेदार भँवर सिंह, सुजाराम गोदारा, बाबूराम मुंडन आदि मौजूद थे।

Comments
English summary
Raimalwada village again created history in Jodhpur Rajasthan,
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X