• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बोलने और चलने में हो रही है दिक्कत तो कोरोना वायरस का खतरा: WHO

|

जेनेवा। पूरा विश्व इस वक्त कोरोना महामारी से जंग लड़ रहा है , अमेरिका में पिछले 24 घंटों में 1237 की कोरोना वायरस से मौत हो गई है, वहां पर कोरोना वायरस से कुल 89420 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि संक्रमित लोगों की संख्या 15 लाख को पार कर गई है, वहीं 2.73 लाख संक्रमित लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं, तो वहीं भारत में लॉकडाउन के बावजूद इसका कहर थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है। पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या में अबतक का सर्वाधिक इजाफा हुआ है।

पूरा विश्व लड़ रहा है कोरोना से जंग

पूरा विश्व लड़ रहा है कोरोना से जंग

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में सर्वाधिक 4987 कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले सामने आए हैं, जबकि 120 लोगों की पिछले 24 घंटों में कोरोना से मौत हुई है, जिसके बाद देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 90927 हो गई है, जिसमे 53946 एक्टिव मामले हैं, जबकि 34109 लोगों का इलाज करके उन्हें उनके घर भेज दिया गया है। वहीं कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की बात करें तो अबतक कोरोना से कुल 2872 लोगों की मौत हो चुकी है।

यह पढ़ें: Lockdown: कोरोना का खौफ, महाराष्ट्र में 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ा

बोलने में हो रही है दिक्कत तो...

बोलने में हो रही है दिक्कत तो...

तो इसी बीच WHO (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन) ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि कोरोना पॉजिटिव इंसान को बोलने में काफी परेशानी होती है, यदि किसी व्यक्ति में ऐसे लक्षण नजर आ रहे हैं तो उसे तुरंत डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए, जबकि इससे पहले नेशनल हेल्थ सर्विस ने कहा था कि कोरोना के शुरुआती लक्षण खांसी और बुखार हैं लेकिन संक्रमित व्यक्ति को बोलने में दिक्कत होती है, ये बात पहली बार WHO की ओर से कही गई है।

 बोलने या संवाद करने की दिक्कत बाद में दिखाई दे सकती है...

बोलने या संवाद करने की दिक्कत बाद में दिखाई दे सकती है...

ऑर्गनाइजेशन ने कहा है कि ये बात कतई जरूरी नहीं है कि कोरोना के सभी मरीजों में बोलने या संवाद करने की दिक्कत नजर आए, हो सकता है कि ये लक्षण बाद में दिखाई दे इसलिए अगर किसी व्यक्ति को बोलने के साथ ही चलने में भी दिक्कत हो रही हो तो उसे तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

कीटाणुनाशक से नहीं मरता कोरोना

कीटाणुनाशक से नहीं मरता कोरोना

इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि खुले में कीटाणुनाशक (डिसइन्फेक्टेंट) छिड़कने से कोरोनावायरस नहीं मरता, बल्कि ऐसा करना लोगों के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है।

'दुनिया से कभी नहीं जाएगा कोरोना वायरस'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के कार्यकारी निदेशक माइकल जे रेयान ने आशंका जताते हुए कहा था कि हो सकता है कि कोरोना दुनिया से कभी खत्म ही ना हो, माइकल ने कहा कि यह अन्य वायरस के जैसा ही एक ऐसा वायरस बन सकता है, जो कभी नहीं जाते हैं, जैसे एचआईवी कभी नहीं गया, वैसे मैं दो बीमारियों की आपस में तुलना नहीं कर रहा लेकिन मेरा मानना है कि हम हकीकत को मानने वाले हैं, मुझे नहीं लगता कि कोई इस बात की भविष्यवाणी कर सकता है कि कब और कैसे यह बीमारी खत्म होगी।

यह पढ़ें: राजधानी में जारी है कोरोना का कहर, दिल्ली में 422 नए मामले, 148 की मौत

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
World Health Organisation (WHO) has said a loss of speech in Covid-19 patients could be accompanied by a lack of movement and if patients experience these symptoms then they should contact a health care practitioner.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X