• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चाइनीज ऐप TikTok को जरा भी छूट देने के मूड में नहीं है अमेरिका, 15 सितंबर है डेडलाइन

|

नई दिल्ली। वीडियो शेयरिंग ऐप टिक टॉक अब अमेरिका में भी बैन होने के कगार है। आगामी 15 सितंबर तक टिक टॉक को अमेरिका में अपना स्वामित्व बेंचना होगा अथवा कारोबार समेट कर वहां से लौटना होगा। जी हां, क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने टिक टॉक ऐप के लिए निर्धारित समय सीमा को बढ़ाने से इनकार कर दिया है, जिससे तय हो गया है कि अब भारत की तरह टिक टॉक ऐप अमेरिका में भी कुछ दिनों का मेहमान है।

tiktok

ड्रैगन पर ट्रंप का तगड़ा वार, अमेरिका ने रद्द किया 1000 से अधिक चीनी नागरिकों का वीजा

हम टिकटॉक के लिए समय सीमा को नहीं बढ़ाने जा रहे हैंः डोनाल्ड ट्रंप

हम टिकटॉक के लिए समय सीमा को नहीं बढ़ाने जा रहे हैंः डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बड़ा झटका देते हुए कहा, हम टिकटॉक के लिए समय सीमा को नहीं बढ़ाने जा रहे हैं। उन्होंने पुरानी डेडलाइन को दोहराते हुए कहा कि आगामी 15 सितंबर तक या कंपनी स्वामित्व बेंच सकती है या अपना कारोबार समेट कर अमेरिका छोड़ सकती है।

टिक टॉक और पबजी समेत सैंकड़ों चीनी ऐप बैन कर चुका है भारत

टिक टॉक और पबजी समेत सैंकड़ों चीनी ऐप बैन कर चुका है भारत

भारत सरकार ने पिछले दिनों पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प के बाद 22 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद टिक टॉक पर बैन लगा दिया था और हाल में गेमिंग ऐप पबजी समेत 118 को भी प्रतिबंधित कर दिया था।

कार्यकारी आदेश में राष्ट्रपति ट्रंप ने 15 सितंबर निर्धारित की थी समय-सीमा

कार्यकारी आदेश में राष्ट्रपति ट्रंप ने 15 सितंबर निर्धारित की थी समय-सीमा

गौरतलब है पिछले महीने एक कार्यकारी आदेश में राष्ट्रपति ट्रंप ने चीनी ऐप के लिए 15 सितंबर की समय-सीमा निर्धारित की थी, जिसमें कहा गया था कि कंपनी या तो किसी अमेरिकी कंपनी के लिए अपना स्वामित्व बदल दे या फिर अमेरिका में अपना कारोबार समेट कर नौ दो ग्यारह हो जाए। ध्यान देने वाली बात यह है कि चीनी ऐप टिक टॉक के सबसे अधिक यूजर अमेरिका में है, जिससे कंपनी को लंबा यूजर बेस खोना पड़ सकता है।

इंटरनेट प्रोद्योगिकी कंपनी बाइटडांस है टिक टॉक का असली मालिक

इंटरनेट प्रोद्योगिकी कंपनी बाइटडांस है टिक टॉक का असली मालिक

हालांकि शुरूआती चरणों में माइक्रोसॉफ्ट को बीझिंग स्थित इंटरनेट प्रोद्योगिकी कंपनी बाइटडांस के साथ चर्चा में शामिल होने के लिए कहा गया था, जो टिक टॉक का मालिक है। राष्ट्रपति ट्रंप ने गत गुरूवार को कहा कि वो समय सीमा नहीं बढ़ाने जा रहे हैं और अंतिम तिथि 15 सितंबर ही रहेगी, जिसके बाद किसी भी सूरत में समय-सीमा का विस्तार नहीं होगा।

हम अमेरिका में टिक टॉक ऐप को सुरक्षा कारणों से बंद कर रहे हैंः ट्रंप

हम अमेरिका में टिक टॉक ऐप को सुरक्षा कारणों से बंद कर रहे हैंः ट्रंप

बकौल राष्ट्रपति ट्रंप, हम देखेंगे कि क्या होता है, इसे या तो बंद कर दिया जाएगा अथवा टिक टॉक की स्वामित्व वाली कंपनी अमेरिका में कारोबार को बेंच देगी। हम अमेरिका में टिक टॉक ऐप को सुरक्षा कारणों से बंद कर देंगे या इसे बेंचा जाएगा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Video sharing app TikTok is now on the verge of being banned in the US. TikTok will have to sell its ownership in the US by September 15 or will have to consolidate and return from there. Yes, because US President Donald Trump has refused to extend the deadline for the Tick Talk app, which has decided that now TikTok app like India is a few days guest in the US.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X