• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

संस्कृत को आधिकारिक भाषा बनाने को लेकर शशि थरूर ने कही बड़ी बात

|

नई दिल्ली। संस्कृत भाषा को देश की आधिकारिक भाषा बनाए जाने को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष नंद कुमार साय ने कहा था कि हिंदी की जगह संस्कृत भाषा को आधिकारिक भाषा बनाया जाए। जिसपर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा कि संस्कृत एक जबरदस्त भाषा है, लेकिन यह सरल भाषा नहीं है, ना ही संस्कृत भाषा को अधिक लोग बोलते हैं। लिहाजा संस्कृत भाषा को एकदम से आधिकारिक भाषा बनाना वाजिब मांग नहीं लगती है।

shashi

पीएम मोदी ने संस्कृत में किया था ट्वीट

दिलचस्प बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले वर्ष नवरात्र के मौके पर लोगों को शुभकामनाएं संस्कृत भाषा में दी थी, उन्होंने संस्कृत में ट्वीट करके लोगों को शुभकामनाएं दी थी। जिसका शशि थरूर ने अंग्रेजी में अनुवाद करके ट्वीट किया था। बता दें कि नई शिक्षा नीति को लेकर मोदी सरकार लगातार मंथन कर रही है। हाल ही में प्रस्ताव आया था कि हिंदी, अंग्रेजी और एक क्षेत्रीय भाषा को स्कूलों में पढ़ाया जाना अनिवार्य किया जाएगा। जिसके बाद हर तरफ इसका विरोध होने लगा था। जिसके बाद खुद सरकार को इस मामले में सफाई देनी पड़ी थी कि यह महज प्रस्ताव है और हम लोगों की इसपर राय ले रहे हैं।

तीन भाषा सिद्धांत का किया था विरोध

नई शिक्षा नीति में जिस तरह से तीन भाषाओं को स्कूल में लागू करने की बात कही गई है, उसका कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने विरोध किया है। शशि थरूर ने कहा कि तीन भाषाओं के फॉर्मूले का समाधान इसे खारिज करना नहीं है बल्कि इसे बेहतर तरीके से लागू करना है। दरअसल नई शिक्षा नीति का तमिलनाडु में कड़ा विरोध हो रहा है। बता दें कि नई शिक्षा नीति में हिंदी भाषा को पढ़ाया जाना अनिवार्य किया गया है, जिसका दक्षिण भारत के राज्यों में सबसे अधिक विरोध हो रहा है।

विरोध नहीं है समाधान

शशि थरूर ने कहा कि इस विचार का विरोध इसका समाधान नहीं है, बल्कि इसे बेहतर तरीके से लागू किया जाना है। उन्होंने कहा कि तीन भाषा का सिद्धांत 1960 में लाया गया था, लेकिन इसे कभी भी सही से लागू नहीं किया गया। दक्षिण भारत में हममे से अधिकतर लोग दूसरी भाषा के तौर पर हिंदी भाषा सीखते हैं, लेकिन उत्तर भारत में कोई भी मलयालम या तमिल भाषा को नहीं सीखता है। इससे पहले शनिवार को तमिलनाडु के कई क्षेत्रीय दलों ने भी इस फॉर्मूले का विरोध किया ता। लोगों ने आरोप लगाया था कि हिंदी भाषा को दक्षिण भारतीयों पर थोपा जा रहा है।

इसे भी पढ़ें- आजीवन कारावास की सजा के बाद भाजपा नेता की विधायकी खत्म, अब 12 सीटों पर होगा उपचुनाव

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Shashi Tharoor opposes Sanskrit language as official language.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X