• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत हिंदू महिला के साथ मुस्लिम युवक की दूसरी शादी अमान्य- गुवाहाटी HC

|
Google Oneindia News

गुवाहाटी, 14 सितम्बर। गुवाहाटी हाईकोर्ट ने हिंदू महिला के साथ मुस्लिम युवक की दूसरी शादी को लेकर बड़ा फैसला दिया है। उच्च न्यायालय ने स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत इस तरह की शादी को अमान्य बताया है।

Court

विशेष विवाह अधिनियम 1954 की धारा 4 का हवाला देते हुए अदालत ने कहा कि स्पेशल मैरिज एक्ट की शर्तों में से एक यह भी है कि किसी पक्ष का जीवनसाथी जीवित नहीं है।

क्या था मामला?
कामरूप (ग्रामीण) में अहमदनगर कार्यालय पर जिला मंडल में लाट मंडल के पद पर कार्यरत थे।
सहाबुद्दीन अहमद कार्यालय जिला मजिस्ट्रेट कामरूप (ग्रामीण) में लाट मंडल के पद पर कार्यरत थे। उनका 2017 में एक सड़क दुर्घटना में निधन हो गया था जिसके बाद उनकी दूसरी पत्नी दीपमणि कलिता ने पेंशन और अन्य लाभ न मिलने को लेकर अदालत में याचिका दायल की है। कलिता 12 साल के बच्चे की मां हैं।

कोर्ट ने कहा कि इस बात पर कोई विवाद नहीं है कि याचिकाकर्ता और स्वर्गीय सहाबुद्दीन अहमद के बीच विवाह की तारीख को विशेष विवाह अधिनियम, 1954 के तहत पंजीकृत किया गया था, उस दौरान उनकी पत्नी जीवित थी। ऐसे कोई दस्तावेज नहीं है जो यह बतातें हों कि याचिकाकर्ता के पति के पूर्व विवाह प्रतिवादी संख्या 6 (पहली पत्नी) के साथ विवाह को रद्द कर दिया गया हो।

सुप्रीम कोर्ट के फैसला का हवाला
मोहम्मद सलीम अली (मृत) बनाम शमसुद्दीन (मृत) मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए अदालत ने कहा ऐसा प्रतीत होता है कि मुस्लिम कानून के सिद्धांतों के तहत, मूर्ति पूजा करने वाले के साथ मुस्लिम व्यक्ति का विवाह न तो वैध है न ही शून्य विवाह, बल्कि केवल अमान्य है।"

केरल: बिशप का मुसलमानों पर विवादित बयान, कहा- 'लव जिहाद' प्रेम विवाह नहीं युद्ध की रणनीतिकेरल: बिशप का मुसलमानों पर विवादित बयान, कहा- 'लव जिहाद' प्रेम विवाह नहीं युद्ध की रणनीति

अदालत ने कहा कि मुल्ला (20वें संस्करण) द्वारा मुस्लिम कानून के सिद्धांतों की धारा 22 के अनुसार दो मुस्लिम में शादी के लिए दोनों का इस्लाम को मानना जरूरी है। कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता मुसलमान नहीं है इसलिए बिना मुस्लिम हुए शादी मुस्लिम कानून के तहत मान्य नहीं है। लेकिन वर्तमान केस में महिला ने स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी की थी। ऐसे में एक्ट के प्रावधान 4 के तहत यह अमान्य है।

    Reservation in Promotion: Supreme Court करेगा मामलों की राज्यवर सुनवाई | वनइंडिया हिंदी

    English summary
    second marriage of muslim man and hindu woman witth special marriage act not valid high court
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X