SBI चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा- नकदी संकट का नोटबंदी से कोई संकट नहीं, यह अस्थायी समस्या

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के चेयरमैन रजनीश कुमार ने देश के कुछ राज्यों में नकदी संकट पर टिप्पणी की हैे। उन्होंने कहा कि यह एक अस्थायी स्थिति है जो मुख्यतः भौगोलिक कारकों के कारण है। इसके लिए एक समाधान है कि उचित नकदी प्रबंधन प्रणाली को बनाए रखा जाए। रजनीश ने कहा कि संकट वाले राज्यों में दूसरे राज्यों में सप्लाई हो रही है। उन्होंने कहा कि कुछ क्षेत्र में मांग बढ़ने से संकट है। हमारे पास कैश पर्याप्त मात्रा में है। मौजूदा संकट नोटबंदी से है या नहीं के सवाल पर रजनीश ने कहा कि इसका नोटबंदी से कोई कनेक्शन नहीं है। बता दें कि इस संकट में यह खबरें भी हैं 2,000 रुपए के करेंसी की ब्लैकमार्केटिंग भी होने की खबरें हैं। इससे जुड़े सवाल पर रजनीश ने कहा कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है। 

SBI चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा- नकदी संकट का नोटबंदी से कोई संकट नहीं, यह अस्थायी समस्या

रजनीश ने कहा कि अगले हफ्ते, चीजें सामान्य होने पर वापस आना शुरू हो जाएंगी। एक ऐसा विभाग है जो इस तरह की परिस्थितियों पर नज़र रखता है। यह नया नहीं है भारतीय रिज़र्व बैंक को प्रणाली में 500 नोट्स के प्रवाह को बढ़ाने के लिए इंडेंट दिया गया है।

उन्होंने कहा है कि एक कारण यह है कि खरीदी का मौसम आ गया है और किसानों को भुगतान किया गया है। जहां तक एसबीआई का संबंध है, महाराष्ट्र और मुंबई में कोई नकदी की कमी नहीं है। बता दें कि इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि देश की मुद्रा की स्थिति की समीक्षा की है। देश में पर्याप्त मात्रा में कैश है। बैंको में भी कैश उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि कुछ क्षेत्रों में 'अचानक और असामान्य वृद्धि' की वजह से अस्थायी कमी से जल्दी से निपटाने की कोशिश की जा रही है।  

ये भी पढ़ें- मशहूर डिजाइनर का विवादित बयान-पैंट उतारने से ऐतराज है तो छोड़ दो मॉडलिंग, चले जाओ मठ

ये भी पढ़ें- गैंगरेप पीड़िता के लिए इंसाफ मांगने सड़क पर उतरा बॉलीवुड, देखें तस्वीरें

ये भी पढ़ें- आरक्षण पर शिवराज के मंत्री का बयान, 90% वाले की जगह 40% वाले को बैठाना देश के लिए घातक

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sbi chairman rajneesh kumar comments on cash crunch in many states

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.