• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ट्रैक्टर परेड के लिए पंजाब के गुरुद्वारों से लगाई गई गुहार 'अभी नहीं तो, कभी नहीं'

|

Farmers Protest:सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए कृषि कानूनों पर रोक लगाने के बावजूद आंदोलनकारी किसानों ने 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्‍ली में ट्रैक्‍टर परेड करने का निर्णया लिया है। इतना ही नहीं किसान संगठनों ने कमेटी से बातचीत करने से इनकार कर दिया है। दिल्ली में ट्रैक्टर परेड में भाग लेने के लिए किसान मजदूर संघर्ष समिति के बैनर तले कल ट्रैक्टर ट्रॉली का एक बड़ा काफिला अमृतसर रवाना हुआ पंजाब के अन्य हिस्सों में किसानों और उनकी यूनियनों ने 20 जनवरी तक रैली के लिए बड़ी संख्या में प्रतिभागियों को भेजने की तैयारी की है-कुछ समुदायों ने यह भी तय किया है कि जो लोग वाहन भेजने में असमर्थ हैं वे या तो जुर्माना भरेंगे या सामाजिक बहिष्कार का सामना करेंगे।

tractor parade
    Farmers Protest: Tractor Parade के लिए Punjab के गुरुद्वारों से गूंज रही ललकार | वनइंडिया हिंदी

    पंजाब के गुरुद्वारों के लाउडस्पीकरों से किसानों को इस ट्रैक्‍टर परेड में शामिल होने के लिए ललकारा गया और कहा गया अगर हम अभी नहीं जाते हैं, तो हमें कभी भी यह अवसर नहीं मिलेगा। यह हमारे अधिकारों के लिए एक लड़ाई है"।

    बता दें मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन से जुड़े कई मामलों की एकसाथ सुनवाई करते हुए सितंबर 2020 में संसद द्वारा पारित किए गए तीनों नए कृषि कानूनों को लागू करने पर रोक लगा दिया। कोर्ट ने "कृषि कानूनों और सरकार के विचारों से संबंधित किसानों की शिकायतों को सुनने और सिफारिशें करने" के लिए चार सदस्यीय समिति का गठन किया। हालांकि, किसान समूहों ने समिति से किनारा कर लिया है, उनके साथ चर्चा करने से इनकार कर दिया है, क्योंकि सभी सदस्य स्पष्ट रूप से खेत कानूनों के पक्ष में हैं। इस प्रकार, किसानों ने 26 जनवरी को नियोजित ट्रैक्टर परेड के साथ आगे बढ़ने का फैसला किया है।उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में आज अलाव जलाकर लोहड़ी मनाई जाती है, किसान संगरूर जिले के भुलार हेरी गांव में तीन नए कृषि कानूनों की प्रतियां जलाकर अपना विरोध प्रदर्शन करेंगे।

    भुलार हेरी के किसान रछपाल सिंह ने बताया, "हम लोहड़ी के दिन शाम 5 बजे गांव में इकट्ठा होंगे और काले कानूनों की प्रतियां जलाएंगे। गांव में 20 जनवरी तक 100 ट्रैक्टरों का काफिला भेजने की योजना है और इसके लिए तैयारियां जोरों पर हैं। स्थानीय गुरुद्वारा में आयोजित एक बैठक ने निर्णय लिया है कि दिल्ली ट्रैक्टर परेड के लिए किसानों को आमंत्रित करने के लिए एक सड़क-वार आंदोलन होगा। जो लोग भाग नहीं ले सकते हैं उन्हें विरोध करने वालों के लिए एक फंड की ओर प्रति सिर cannot 2,100 का भुगतान करना होगा। राशि का भुगतान न करने पर सामाजिक बहिष्कार होगा।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    "Now Or Never" loudspeaker buzzing from gurdwaras of Punjab for tractor parade, penalty for not joining
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X