• search

दुष्‍यंत हत्‍याकांड: इस 'कातिल हसीना' को था महंगी शराब का शौक, अय्याशी के लिए ऐसे फंसाती थी अमीर लड़कों को

By Ankur Kumar Srivastava
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    जयपुर। राजस्‍थान के जयपुर में हुए चर्चित दुष्‍यंत अपहरण-हत्‍याकांड में रोज नए खुलासे हो रहे हैं। पुलिस ने इस संबंध में प्रिया सेठ नाम की युवती को गिरफ्तार किया है। प्रिया ने इस पूरी घटना को अंजाम डेटिंग ऐप (टिंडर) के माध्‍यम से अंजाम दिया था। उसने पहले दुष्‍यंत को अपने प्‍यार के जाल में फंसाया। उसके साथ शारीरिक संबंध बनाई और ब्‍लैकमेल करते हुए उसे किडनैप कर लिया। प्रिया ने दुष्‍यंत की आजादी के लिए 10 लाख रुपए फिरौती के तौर पर मांगे। दुष्‍यंत के पिता ने तीन लाख रुपए उसके अकाउंट में ट्रांसफर किया लेकिन फिर भी उसने अपने दो साथियों के साथ दुष्‍यंत की हत्‍या कर दी और बॉडी को एक सूटकेस में भरकर ठिकाने लगा दिया। ये तो थी वारदात की कहानी लेकिन प्रिया के बारे में जब आप जानेंगे तो आपके होश उड़ जाएंगे। इस ''कातिल हसीना' को महंगे कपड़े, विदेशी  परफ्यूम और महंगी  शराब का शौक था। आपको शायद यकीन न हो लेकिन प्रिया हसीन दिखने के लिए खुद पर हर महीने डेढ़ लाख रुपए से ज्‍यादा खर्च करती थी।

    अमीर लड़कों को जाल में फंसाकर ऐश करना काम था प्रिया का

    अमीर लड़कों को जाल में फंसाकर ऐश करना काम था प्रिया का

    प्रिया अपने ब्‍वॉयफ्रेंड दीक्षांत कामरा के साथ लिव इन रिलेशन में रहती थी। दीक्षांत धनाढ्य युवकों को चिन्‍हित करता था और प्रिया उसे अपने हुस्‍न के जाल में फंसाकर पैसे ऐंठती थी। इसी पैसों से दोनों ऐश करते थे। उनके अय्याशी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पुलिस को दीक्षान्त के पास 80 हजार रुपए के जूते मिले हैं। हैरान करने वाली बात ये है कि प्रिया ने लोगों से अब तक लगभग 1.25 करोड़ रुपए ऐंठे मगर महंगे शौक के कारण उसका बैंक बैलेन्स जीरो है।

    कीमती शराब व विदेशी सिगरेटों की शौकीन थी प्रिया

    कीमती शराब व विदेशी सिगरेटों की शौकीन थी प्रिया

    पूछताछ में प्रिया सेठ ने पुलिस को बताया कि वह मोबाइल फोन, सोशल मीडिया आदि के जरिए पैसे वाले लोगों को फांसती, फिर रुपए ऐंठकर भाग निकलती थी। उसे महंगे परफ्यूम, कपड़ों और सौंदर्य प्रसाधन काम में लेने का शौक है। कीमती शराब व सिगरेट पीती थी, हवाई जहाज में सफर करती थी। उसका एक माह का खर्च लगभग 1.50 लाख रुपए था। वह वर्ष 2012-13 से अनैतिक कामों में लिप्त है। खूब पैसे ऐंठे लेकिन उसका बैंक बैलेंस जीरो है। उसने एक एनआरआई से 60 हजार रुपए का मोबाइल ऐंठा, फिर उसका नंबर ब्लैकलिस्ट में डाल दिया।

    इसे भी पढ़ें-अदिति सिंह के साथ राहुल गांधी की शादी? जानें इस वायरल खबर का पूरा सच

    अब जानिए प्रिया की हिस्‍ट्री, कैसे बनी दलाल

    अब जानिए प्रिया की हिस्‍ट्री, कैसे बनी दलाल

    प्रिया ने पुलिस को बताया कि वर्ष 2011 में उसने मानसरोवर के एक कॉलेज में पढने के लिए एडमिशन लिया। एक साल बाद एक विज्ञापन देख पार्टटाइम जॉब के लिए पहुंची तो वहां एक व्यक्ति ने बताया कि कमाई बहुत होगी, आपको तो केवल एक फ्लैट किराए पर लेना है। उस फ्लैट में लड़कियां व ग्राहक भेजेंगे। एक लडक़ी से होने वाली कमाई का 10 प्र्रतिशत हिस्सा देंगे। तब फ्लैट किराए पर लिया और इस गलत धंधे में आ गई। एक बार श्यामनगर थाना पुलिस ने उसे पकड़ा तो जगह बदल-बदल कर काम करने लगी।

    वेश्‍यावृत्ति के लिए सप्‍लाई करती थी लड़कियां

    वेश्‍यावृत्ति के लिए सप्‍लाई करती थी लड़कियां

    पुलिस पड़ताल में सामने आया कि प्रिया वेश्यावृत्ति के लिए लड़कियां उपलब्ध कराती थी। अन्य राज्यों से भी लड़कियां सप्लाई करती थी। कई कुख्यात दलालों से उसके संपर्क हैं। वह खुद भी रसूखदारों को फांसती और मोटी रकम ऐंठकर भाग निकलती। वेश्यावृत्ति से जुड़ी कई खूबसूरत लड़कियों के फोटो का प्रिया ने अपने मोबाइल में एलबम बना रखा था। कई दलालों से उसकी होड़ भी थी।

    इसे भी पढ़ें-बलात्‍कार का वायरल VIDEO देख रहा था जीजा, जिसका हो रहा था रेप वो निकली उसकी नाबालिग साली

    ऐसे फंसाती थी शिकार

    ऐसे फंसाती थी शिकार

    जानकारी के मुताबिक, फंसाने के लिए बनाई वेबसाइट आरोपी प्रिया से लोग उसकी वेबसाइट पर अनैतिक काम करने के लिए संपर्क करते थे। वेबसाइट पर संपर्क के बाद लोगों से मिलने प्रिया अपने ड्राइवर गणेश के साथ पहुंच जाती थी। जहां पर प्रिया पहले लोगों से सौदा कर 10 से 50 हजार ले लेती थी और बाद में ड्राइवर को लेकर भाग जाती। प्रिया सेठ व दुष्यंत टिंडर एप पर एक्टिव थे। दुष्यंत व प्रिया के बीच चेटिंग होती थी। दोनों में दोस्ती हो गई। फिर मिलना जुलना और घूमना भी हुआ। प्रिया दुष्यंत को पैसेवाला समझी। अप्रैल में दीक्षांत मुंबई से आया तो दुष्यंत का अपहरण कर फिरौती की साजिश रची। अपहरण की जानकारी 3 मई को पुलिस को दी गई थी।

    जानिए दुष्‍यंत अपहरण-हत्‍याकांड की पूरी कहानी

    जानिए दुष्‍यंत अपहरण-हत्‍याकांड की पूरी कहानी

    बीते 3 मई को राजस्थान के जयपुर में एक सूटकेस में टुकड़ों में मिली लाश मिली थी। पुलिस ने मृतक की पहचान दुष्यंत शर्मा के रूप में की। पुलिस ने हत्‍याकांड का खुलासा करते हुए बताया था कि प्रिया सेठ ने दुष्यंत को डेटिंग एप टिंडर के जरिए अपने हुस्न के जाल में फंसाया। दोस्ती के बाद मुलाकातों का सिलसिला शुरू हुआ तो दोस्ती प्रेम में बदल गई। किसी खतरे से अंजान दुष्यंत प्रिया के जाल में फंसता जा रहा था। इस बीच दुष्यंत के साथ प्रिया ने कई बार शारीरिक संबंध बनाए और उसका अश्लील वीडियो बना लिया। इस अश्लील वीडियो के जरिए फिर प्रिया ने ब्लैकमेल कर दुष्यंत से पैसे उगाहने शुरू कर दिए। लेकिन प्रिया के पैसों की भूख बढ़ती जा रही थी। 2 मई को प्रिया सेठ ने दुष्यंत को मिलने बुलाया और अपने साथियों के साथ मिलकर उसे अगवा कर लिया। प्रिया सेठ ने दुष्यंत के फोन से ही उसके परिजनों से दुष्यंत की बात करवाई और फिरौती के रूप में 10 लाख रुपये मांगे। दुष्यंत के परिजनों ने बताए गए बैंक खाते में 3 तीन लाख रुपए डाल भी दिए। प्रिया सेठ ने उस बैंक खाते से एटीएम के जरिए 20 हजार रुपये भी निकाले। लेकिन पकड़े जाने के डर से प्रिया सेठ ने अपने साथियों के साथ मिलकर दुष्यंत की निर्ममता से हत्या कर दी।

    इसे भी पढ़ें- 21 साल की नौकरानी की हत्‍या कर कपल ने लाश के बगल में किया सेक्‍स, रोती रही महिला लेकिन पार्टनर...

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    The 27-year-old college dropout allegedly got into flesh trade six years ago to make easy money and grew fond of an extravagant life.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more