तीन साल से नहीं हैं धुले ट्रेन में यात्रियों को दिए जा रहे चादर-तकिये

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। हाल ही में नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (CAG) ने अपनी रिपोर्ट में यह खुलासा किया था कि ट्रेन में दिए जाने वाला खाना इंसानों के खाने लायक नहीं है। अब सीएजी ने ट्रेन में यात्रियों को दिए जाने वाले कंबल और तकिये को लेकर भी गंभीर सवाल उठाए हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि रेलवे जो कंबल, चादर और तकिये यात्रियों को देता है तो सालों तक नहीं धुलते।

कंबल, चादर और तकियों की सफाई में भारी लापरवाही

कंबल, चादर और तकियों की सफाई में भारी लापरवाही

सीएजी ने संसद में पेश की गई अपनी रिपोर्ट में बताया है कि ट्रेन में इस्तेमाल होने वाले कंबल और चादरें धुलवाने में रेलवे लापरवाही कर रहा है। रिपोर्ट में बताया गया है कि इन कपड़ों की धुलाई का समय है, उसका रेलवे ध्यान नहीं रखता है और इन्हें लंबे समय तक नहीं धुलावाया जाता।

तीन साल से नहीं धुले कंबल

तीन साल से नहीं धुले कंबल

रिपोर्ट में सामने आया है कि कुछ कंबल और चादरें तो ढाई-तीन साल से नहीं धुली है। रिपोर्ट के मुताबिक, नौ जोन के 13 डिपो में तीन साल से कोई कंबल धुला ही नहीं है। वहीं 33 में से 26 डिपो में चादर सालों से बिना धुले चल रही हैं। कुछ जगहों पर पुरानी चादरों को फाड़कर उनसे तकियों के कवर बना देने की भी बात सामने आई है।

इस्तेमाल के बाद धुलनी चाहिएं चादरें

इस्तेमाल के बाद धुलनी चाहिएं चादरें

सीएजी की रिपोर्ट में जो बातें सामने आई हैं, वो नियमों का उल्लंघन है। नियम के हिसाब के यात्री को धुली हुई चादरें, तकिया, कंबल मिलने चाहिए यानि एक बार इस्तेमाल के बाद ही ये धुलने चाहिएं। इससे पहले रेलवे में परोसा जा रहा खाने को लेकर भी सीएजी ने बेहद गंभीर सवाल उठाए थे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
CAG report says railway not following blankets pillows washing schedule
Please Wait while comments are loading...