• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लॉकडाउन: पहले बेरोजगार, फिर हुआ लूट का शिकार, 25 दिन में 2800 KM का सफर तय कर पहुंचा घर

|

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने 25 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया जिसे बढ़ाकर अब 3 मई, 2020 तक के लिए कर दिया गया है। लॉकडाउन के दौरान सबसे ज्यादा प्रवासी और दिहाड़ी मजदूरों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है। नौकरी जाने की वजह से वह आजीविका और खाने-पीने की समस्या से जूझ रहे हैं जिसके चलते कई मजदूरों ने पलायन भी किया। असम के रहने वाले 46 वर्षीय जादव गोगोई भी उन्हीं में से एक हैं।

27 मार्च को शुरू किया था पैदल सफर

27 मार्च को शुरू किया था पैदल सफर

गुजरात में काम की तलाश में पहुंचे जादव गोगोई को लॉकडाउन के चलते काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। 46 साल के जादव गोगोई की नौकरी जाने के बाद जब उनके सामने रोजी-रोटी की समस्या आई तो उन्होंने पैदल ही अपने घर जाने का फैसला किया। 27 मार्च को जादव गोगोई ने गुजरात के वापी से पैदला चलना शुरू किया।

रास्ते में लूटेरों ने छीन लिए सारे पैसे

रास्ते में लूटेरों ने छीन लिए सारे पैसे

जादव गोगोई ने बताया कि रास्ते में अगर कोई ट्रक या वाहन मिल जाता तो वह उसपर बैठकर कुछ दूर का सफर तय कर लेते थे। ऐसा करते-करते उन्होंने गुजरात से असम तक का 2800 किलोमीटर का सफर तय किया। 25 दिन लगातार चलने के बाद वह नगांव जिले के राहा इलाके में अपने घर पहुंचे। जादव ने सफर के दौरान हुई एक घटना का भी जिक्र किया जिसमें उनकी जमां-पूजीं भी छीन लिया गया।

पुलिस-प्रशासन ने मदद से किया इनकार

पुलिस-प्रशासन ने मदद से किया इनकार

जादव गोगोई ने बताया कि वह गुजरात से 4 हजार रुपए लेकर निकले थे, घर पहुंचने के दौरान जब उन्होंने सड़क पर दौड़ रहे एक ट्रक से मदद ली तो रास्ते में उनके पैसे, मोबाइल और अन्य सभी सामान भी लूट लिया गया। जब वह राहा में पहुंचकर सड़क के किनारे आराम कर रहे थे, तभी स्थानीय लोगों ने पुलिस को फोन कर बुला लिया। पुलिस वालों को उन्होंने बताया कि वह गधारिया करौनी गांव का रहने वाला हूं और बिहार, बंगाल से होते हुए यहां पहुंचे हैं।

14 दिनों के लिए क्वारनटीन में रखे गए

14 दिनों के लिए क्वारनटीन में रखे गए

जादव के मुताबिक उन्होंने पुलिस और सरकारी महकमे से मदद मांगी लेकिन उन्हें किसी भी सहायता के लिए मना कर दिया गया। उन्होंने ने कहा, लॉकडाउन के बाद मेरे पास घर लौटने के अलावा कोई चारा नहीं है। बिहार से बंगाल होते हुए असम के राहा तक मैंने पैदल ही सफर तय किया। राहा के स्थानी पुलिस ने जादव को फिलहाल नौगांव सिविल हॉस्पिटल में चेकअप के लिए भर्ती कराया है। पुलिस का कहना है कि वह दूसरे राज्य से आया है इसलिए 14 दिनों के लिए क्वारनटीन कर दिया गया है।

हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स और कोरोना वॉरियर्स के लिए बना नया पोर्टल

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Assam man reached Home in journey of 2800 KM in 25 days from Gujarat robbed on the way during lockdown
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X