• search
बिहार न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

बिहार: ज़िला अधिकारी के सामने खुली हेडमास्टर की पोल, कार्रवाई से शिक्षकों का हुआ बुरा हाल

अररिया जिला अधिकारी इनायत खान की वजह से अररिया जिला काफी सुर्खियों में है। आईएएस इनायत खान अपने कामों ईमानदारी के साथ बखूबी अंजाम देने के लिए जानी जाती रही हैं।
Google Oneindia News

अररिया, 9 जून 2022। अररिया की नई ज़िला अधिकारी इनायत खान अपने कामों को लेकर इन दिनों ख़ूब सुर्खियां बटोर रही हैं। आपको बता दें कि इनायत खान को पहली बार शेखपुरा के जिला अधिकारी की कमान मिली थी। उससे पहले वह पर्यटन विभाग में संयुक्त सचिव का ओहदा संभाल रहीं थीं इसके साथ उनके पास बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम का अतिरिक्त प्रभार भी था। हाल ही में उनका तबादला अररिया ज़िले में किया गया है। उन्होंने शेखपुरा में बतौर जिला अधिकारी काफ़ी सुर्खियां बटोरी थीं। अब वह अररिया में ईमानदार और कुशल प्रबंधक के तौर पर चर्चा में बनी हुई हैं।

बच्चों को नहीं पढ़ा पाए हेडमास्टर

बच्चों को नहीं पढ़ा पाए हेडमास्टर

अररिया जिला अधिकारी इनायत खान की वजह से अररिया जिला काफी सुर्खियों में है। आईएएस इनायत खान अपने कामों ईमानदारी के साथ बखूबी अंजाम देने के लिए जानी जाती रही हैं। अब वह अररिया में भी सुस्त व्यवस्था को दुरुस्त करने की लगातार कोशिश कर रही हैं। इसी कड़ी में उन्होंने सरकारी योजनाओं की जांच के लिए औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान वह जोकीहाट ब्लाक के उत्क्रमित मध्य स्कूल पहुंची। विद्यालय में शिक्षक से कहा कि बच्चों को अंग्रेज़ी पढ़ाएं। कक्षा 3 के बच्चों को हेड मास्टर जब अंग्रेजी पढ़ाने आए तो उनका ज्ञान भी पूरी तरह से गोल निकला। इसके साथ ही मध्य विद्यालय का हाल देखने के बाद उन्होंने काफ़ी नाराज़गी ज़ाहिर की । उन्होंने कड़ी कार्रवाई करते हुए तुरंत ही दो शिक्षकों के तबादले का निर्देश भी प्रतिमा कुमारी (प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी) को दे दिया।

जिलाधिकारी के सवालों का जवाब नहीं दे पाए छात्र

जिलाधिकारी के सवालों का जवाब नहीं दे पाए छात्र

इनायत खान ने बच्चों से विज्ञान, गणित और अंग्रेजी के शिक्षकों का नाम पूछा तो किसी छात्र ने भी जवाब नही दिया। उन्होंने वहां के हालात को देखते हुए हेडमास्टर को तत्काल प्रभाव से सुस्त व्यव्स्था को दुरुस्त करने के आदेश दिये। प्राथमिक विद्यालय मल्हार टोला के छात्रों को भी यूनिफॉर्म में नहीं देख कर डीएम इनायत खान ने नाराज़गी ज़ाहिर की। इसके साथ ही बच्चों को यूनिफॉर्म पहन कर आने के लिए पैरेंट्स मीटिंग बुलाने की भी बात कही। वहीं इनायत खान ने आंगनबाड़ी केंद्र का भी निरीक्षण किया। बच्चों से खान पान के बारे में जानकारा ली साथ ही बच्चों से गिनती भी सुनी। इसी कड़ी में उन्होंने स्थानीय जन वितरण प्रणाली की भी जांच की। पंचायत भवन में विकास की योजनाओं का जाय़जा लिया और स्थनीय मुखिया को शिक्षा व्यवस्था पर खास ध्यान देने की सलाह भी दी।

ईमानदार अधिकारियों में गिना जाता है इनायत का नाम

ईमानदार अधिकारियों में गिना जाता है इनायत का नाम

इनायत खान 2012 बैच की आईएएस अधिकारी हैं और वह बिहार कैडर से ही ताल्लुक रखती हैं। उन्होंने बहुत ही कम वक़्त में देश के ईमानदार अधिकारियों में अपने काम के बदौलत नाम कमा लिया है। खास तौर से देश की युवतियां उन्हें (इनायत खान) अपना रोल मॉडल मानती हैं। ग़ौरतलब है कि इनायत खान प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज की छात्रा थीं और उन्होंने पहली ही कोशिश में यूपीएससी क्रैक कर 176वां रैंक हासिल किया था |

ये भी पढ़ें: बिहार से पलायन रोकने के लिए नीतीश सरकार की एक और पहल, प्रदेश में ही युवाओं को मिलेगा रोज़गार

Comments
English summary
Headmaster poll open in front of the araria district magistrate inayat khan
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X