• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लेखन से पहचानिए व्यक्ति का भविष्य?

By Pt. Anuj K Shukla
|
Google Oneindia News

लखनऊ। ज्योतिष शास्त्र में नौं ग्रहों एंव बारह भावों को सर्वसम्मति से मान्यता प्राप्त है। ये नौं ग्रह व्यक्ति का सार्वभौमिक विशलेषण करने में सक्षम होते है। अतीत, वर्तमान और भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारें पूर्व आकलन करने में मद्द करते है। इन ग्रहों का सम्बन्ध भी व्यक्ति की लिखावट, लेखन शैली और हस्ताक्षर से होता है। आज हम बात करते है लेखन से कैसे चुने करियर।

लेखन

लेखन

  • जो लोग होटल या रेस्टोरेन्ट के व्यवसाय से जुड़े है, उनके लेखन में अक्षर अलग-2 व दूरी पर होते है तथा लिखने की गति धीमी होती है। अक्षर कभी एक रेखा में सजें नहीं होते है।
  • लेखन एंव साहित्य से जुडे लोग लिखते वक्त कटिंग बहुत करते है। इनके अक्षर गोल होते है।
  • आर्मी व पुलसि विभाग में काम करने वाले लोगों कि लिखावट में अक्षर मोटे मोते है और सलीके से लिखे नहीं होते है। इनकी लिखने की स्पीड अच्छी होती है और ये कामा का प्रयोग ज्यादा करते है।
  • मीडिया में काम करने वाले व्यक्तियों की लिखवाट में अक्षर एक-दूसरे से सटे होते है। इनकी लिखावट जल्दबाजी प्रतीत होती है।

यह पढ़ें:जानिए क्या है लेखन और ग्रहों के बीच का कनेक्शन?यह पढ़ें:जानिए क्या है लेखन और ग्रहों के बीच का कनेक्शन?

अक्षरों को बड़े सलीके से सजाकर रखते हैं...

अक्षरों को बड़े सलीके से सजाकर रखते हैं...

  • प्रबन्धक, मैनेजर, प्रशासक आदि लोगों की लिखावट विशेष तौर पर साफ सुथरी होती है। अक्षरों को बड़े सलीके से सजाकर रखते है।
  • इन्जीनियरों की लिखावट के अक्षर बुहत जुड़े होते है तथा इनके अक्षरों का दाॅयी ओर विशेष कर झुकाव होता है।
  • डाक्टरी पेशा से जुड़े हुये लोगों की राइटिंग ऐसे होती हो जो शायद खुद को भी ठीक से समझ में न आयें। लिखने की गति तीव्र होती है। इनके ‘एस' अक्षर की बनावट नीचे से गोलाई लिए होती है।
  • अधिवक्ता एंव न्यायिक प्रक्रिया से से सम्बन्धित लोगों की लिखवाट में सुन्दरता होती है और ये पहले अक्षर को घुमा के लिखते है लेकिन अन्तिम अक्षर को सीधा एंव दबा लिखते है। इनके लेखन में ही न्याय दिखता है।
  • ज्योतिष एंव धर्म से जुड़े लोगों की लिखवाट नीचे से ऊपर की ओर होती है। इनके अक्षर नीचे से ऊपर की ओर जाते है। धार्मिक प्रवृत्ति वाले लोगों के हस्ताक्षर नीचे से ऊपर की ओर 45 अंश का कोण बनाये हुये होते है।
  • हस्ताक्षर स्पष्ट व साफ सुथरे होने चाहिए

    हस्ताक्षर स्पष्ट व साफ सुथरे होने चाहिए

    • अध्यापक, लेक्चर एंव प्रोफेसर अपने हस्ताक्षर स्पष्ट व साफ सुथरा बनाते है। ये लोग अपने हस्ताक्षर के नीचे एक रेखा खींच देते है अर्थात अंडरलाइन कर देते है।
    • आईएस, एसडीएम, प्रधानमन्त्री, मुख्यमन्त्री, कैबिनट मन्त्री या किसी संस्था के मुखिया आदि ऐसे शीर्ष पर बैठें लोगों के हस्ताक्षर एक छोटे शब्द में सम्पूर्ण नाम का समावेश व शक्ति से परिपूर्ण होते है।
    • राजनीति से जुड़े लोगा जैसे सांसद, विधायक, नगर पालिका अध्य क्ष, सभासद या किसी प्रकोष्ठ के पदासीन आदि। ये लोग अपने हस्ताक्षर को पूर्ण करने के पश्चात ही देखते है। एक ही शब्द मात्र से वह पूर्ण हस्ताक्षर करते है।

यह पढ़ें: Hariyali Teej 2019: हरियाली तीज पर करें कुछ इस तरह से पूजा यह पढ़ें: Hariyali Teej 2019: हरियाली तीज पर करें कुछ इस तरह से पूजा

Comments
English summary
Here in this article we want to talk about some of the common characteristics of outstandingly successful writers in this world. Astrologically planets reveal different characteristics.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X