Tap to Read ➤

कौन हैं वकील सौरभ कृपाल, जो अपनी सेक्सुअलिटी को लेकर चर्चा में?

देश के वरिष्‍ठ वकील सौरभ कृपाल ने कहा है कि उनकी सेक्सुअलिटी की वजह से उन्हें जज के रूप में पदोन्नति नहीं किया जा रहा है।
pallavi kumari
इन दिनों वरिष्‍ठ वकील सौरभ कृपाल अपनी सेक्सुअलिटी को लेकर चर्चाओं में हैं। उनका आरोप है कि समलैंगिक होने की वजह से उन्हें जज नहीं बनाया जा रहा है।
कुछ महीने पहले सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने वरिष्‍ठ वकील सौरभ कृपाल को दिल्‍ली हाई कोर्ट के न्यायाधीश बनाने की सिफारिश की थी।
अगर सौरभ कृपाल जज बनाए गए तो वह भारत के पहले समलैंगिक न्यायाधीश होंगे। आइए जानें सौरभ कृपाल के बारे में?
सौरभ कृपाल ने दिल्ली में सेंट स्टिफन कॉलेज से ग्रेजुएशन की है। उसके बाद उन्होंनेऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से एलएलबी की पढ़ाई की है।
सौरभ ने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से एलएलएम की डिग्री ली है। उन्होंने कुछ वक्त के लिए जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र के साथ भी काम किया है।
1990 में सौरभ भारत आए। यहां उन्होंने दो दशकों तक सुप्रीम कोर्ट में लॉ की प्रैक्टिस की।
सौरभ कृपाल के पिता बीएन कृपाल भारत के मुख्य न्यायाधीश रह चुके हैं। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील विकास सिंह सौरभ के करीबी हैं।
सौरभ कृपाल ने संवैधानिक, वाणिज्यिक, नागरिक और आपराधिक कानून के क्षेत्र में काम किया । वह सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ के समक्ष LGBTQ मामले में वकीलों की टीम का हिस्सा थे।