Tap to Read ➤

'डर्टी बम' क्या होता है?

सीडीसी के मुताबिक 'डर्टी बम' डायनामाइट या प्लूटोनियम जैसे विस्फोटकों का रेडियोऐक्टिव पावडर या छर्रों के साथ तैयार किया गया एक मिश्रण होता है।
Dirty Bomb
जब डायनामाइट या दूसरे विस्फोटकों में विस्फोट कराया जाता है तो 'डर्टी बम' में धमाके की वजह से रेडियोऐक्टिव पदार्थ आसपास के इलाके में फैल जाते हैं।
'डर्टी बम' और Radiological dispersal device (RDD) जैसे नाम अक्सर एक-दूसरे की जगह पर इस्तेमाल होते हैं।
difference from atomic bomb
'डर्टी बम' और परमाणु बम एक नहीं होते हैं। परमाणु बम में परमाणुओं के विभाजन से अत्यधिक ऊर्जा निकलती है। परमाणुओं का मशरूम की तरह बादल का निर्माण होता है।
'डर्टी बम' में परमाणु विस्फोट नहीं होता। इसमें डायनामाइट या दूसरे विस्फोटकों के जरिए रेडियोऐक्टिव धूल, धुआं और बाकी पदार्थों को दूर तक फैलाया जाता है, जिससे कि रेडियोऐक्टिव प्रदूषण फैलता है।
'डर्टी बम' में जब विस्फोट होता है तो बेहद नजदीक मौजूद लोगों को गंभीर चोटें लग सकती हैं और प्रॉपर्टी का भी काफी नुकसान हो सकता है। लेकिन, यह तत्काल बहुत ज्यादा रेडिएशन नहीं पैदा करता, जिससे फौरन कोई गंभीर बीमारी का खतरा नहीं होता।
'डर्टी बम' विस्फोट के बाद इसका धुआं और धूल दूर तक फैलता है, जो सांस में जाने पर बाद में स्वास्थ्य को बहुत ही ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है।
Dirty Bomb Dangers
'डर्टी बम' विस्फोट के रेडिएशन को तत्काल ना तो देख सकते हैं, ना ही इसका गंध ही महसूस कर पाते हैं और ना ही इसके रेडिएशन का स्वाद ही पता चलता है।
'डर्टी बम' विस्फोट के बाद फौरन अपनी नाक और मुंह को पास मौजूद कपड़ों से ढंक लें। रेडियोऐक्टिव धूल और धुआं को सांस के साथ अंदर जाने से रोकें।
Dirty bomb protection
'डर्टी बम' विस्फोट के बाद उसकी चपेट में आए किसी भी वस्तु को छून से बचें, क्योंकि यह रेडियोऐक्टिव हो सकता है।
अगर बाहर हैं तो विस्फोट के बाद फौरन ऐसी जगह पर कवर लें, जो इसकी धूल की चपेट में आने से बचे हुए हों।
विस्फोट के बाद क्या करें ?
आपने जो भी ऊपरी कपड़े पहन रखे हों और नाक-मुंह ढकने के लिए जो इस्तेमाल किया हो, उसे किसी प्लास्टिक बैग में सील कर दें और लोगों की पहुंच से दूर कर दें।
इसके बाद अच्छे से साबुन लगाकर नहा लें। अपने बालों को धोना ना भूलें। इससे रेडियोऐक्टिव धूल हट जाएगा।
यह जानकारी भी जरूरी है
'डर्टी बम' विस्फोट के बाद भी अच्छी तरह से बंद जगह में रखा हुआ भोजन और पानी की सप्लाई सुरक्षित रहने की उम्मीद है।
खुला हुआ खाना या पानी का इस्तेमाल करने से बचें। अगर बंद डिब्बे के ऊपर धूल हों तो उसके ऊपरी हिस्से को अच्छी तरह से धोने के बाद ही उसे खोलें।