Tap to Read ➤

कौन हैं वंशवर्धन सिंह जो बूंदी रियासत के 26वें महाराजा बने?

राजस्थान में हाड़ा वंश की सबसे पुरानी रियासत बूंदी के 26वें महाराव राजा वंशवर्धन सिंह बने हैं।
अलवर महाराजा पूर्व केन्द्रीय मंत्री भंवर जितेन्द्रसिंह ने पाग धारण करवाई।
विक्रमी संवत नव संवत्सर पर राजसी परम्पराओं बीच वंशवर्धन सिंह का राजतिलक किया गया।
12 वर्ष से रिक्त बूंदी पूर्व राज परिवार के मुखिया तौर पर अब वंशवर्धनसिंह पहचाने जाएंगे।
वंशवर्धन सिंह ने आशापुरा माता मंदिर, रंगनाथजी मंदिर और मोती महल में सतियों की पूजा अर्चना की।
वंशवर्धन सिंह के ससुराल ठिकाना धनानी के ठाकुर दीपसिंह चम्पावत की ओर से दस्तूर पेश किया गया।
बूंदी की रियासत राजपूताने की एक प्राचीन रियासत मानी जाती है। स्थापना महाराव देवा हाड़ा ने 1242 में की थी।
बूंदी राजवंश में कई प्रतापी शासक हुए हैं। राजपूताने के चौहान वंश के हाड़ा कुल की प्रथम रियासत है।
नए महाराव राजा वंशवर्धन सिंह का जन्म कापरेन ठिकाने के महाराजधिराज बलभद्र सिंह हाड़ा के घर 8 जनवरी 1987 को हुआ।
विवाह  मयूराक्षी कुमारी से वर्ष 2016 में हुआ। दो वर्षीय पुत्र वज्रनाभ सिंह हैं।
प्राथमिक शिक्षा डेली कॉलेज इंदौर मध्यप्रदेश से हुई। कॉलेज शिक्षा इंग्लैण्ड लीस्टर की डी मॉंंटफोर्ट यूनीवर्सिटी से हुई।