Tap to Read ➤

उत्तराखंड हाईकोर्ट भवन, ब्रिटिशकालीन सचिवालय से अब तक का सफर

उत्तराखंड उच्च न्यायालय मल्लीताल नैनीताल में स्थित एक पुराने भवन में कार्य कर रहा है जिसे पुराने सचिवालय के रूप में जाना जाता था।
Pavan nautiyal
उच्च न्यायालय की इमारत बहुत ही शानदार है और इसका निर्माण 1900 ईस्वी में किया गया था। इमारत के सामने एक पार्क है और पृष्ठभूमि में नैनीताल की सबसे ऊंची चोटी नैना पीक है।
शुरुआत में पांच कोर्ट रूम का निर्माण किया गया था लेकिन बाद में और कोर्ट रूम जोड़े गए। वर्ष 2007 में एक विशाल मुख्य न्यायाधीश न्यायालय ब्लॉक और वकीलों के कक्षों का एक ब्लॉक भी बनाया गया है।
1862 में नैनीताल को उत्तर पश्चिमी प्रांत की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया गया। इस भवन को ही सचिवालय के रूप में इस्तेमाल किया गया। 1896 में सरकार ने बांर्सडेल इस्टेट का अधिग्रहण कर ईमारत का निर्माण किया गया।
बांर्सडेल इस्टेट का नाम इंग्लेंड के प्रसिद्ध वन बांर्सडेल फॉरेस्ट के नाम पर रखा गया। सेक्रेटियट बिल्डिंग 1900 में तैयार हो गई और यह गौथिक शैली पर आधारित थी।
ये बिल्डिंग भूंकपरोधी बनाई गई है। बाद में उत्तराखंड बनने के बाद इस भवन को हाईकोर्ट के रूप में इस्तेमाल किया गया।
लोगों का मानना है कि जब यहां से कोर्ट शिफ्ट किया जाएगा तो ये भवन म्यूजियम के रूप में याद किया जाएगा।
विंटर में स्नोफॉल का लेना है आनंद, चले आइए उत्तराखंड की इन वादियों में
see more