Tap to Read ➤

UPSC के 50 साल के Toppers, जानिए कौनसा राज्‍य अव्‍व्‍ल?

ये है यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा में 1972 से लेकर अब तक के टॉपर्स की पूरी सूची।
vishwanath saini
उत्‍तर प्रदेश के बिजनौर की श्रुति शर्मा ने दूसरे प्रयास में यूपीएससी टॉप की। नई दिल्‍ली से कॉलेज की पढ़ाई की।
श्रुति शर्मा, यूपीएससी टॉपर 2021
बिहार के शुभम कुमार ने आईआईटी बॉम्‍बे से इंजीनियरिंग की। शुभम कटिहार जिले के रहने वाले हैं। तीसरे प्रयास में टॉपर बने।
शुभम कुमार, यूपीएससी टॉपर 2020
हरियाणा के प्रदीप सिंह चौथे प्रयास में UPSC टॉपर बने। सोनीपत के स्‍कूल शिक्षा ली। IAS बनने से पहले IRSअधिकारी बने।
प्रदीप सिंह, यूपीएससी टॉपर 2019
जयपुर से कनिष्‍क कटारिया ने IIT बॉम्‍बे से बीटेक किया। कोटा से स्‍कूल की पढ़ाई पूरी की। पहले प्रयास में UPSC टॉपर बने।
कनिष्‍क कटारिया, UPSC टॉपर 2018
बिटस पिलानी से बीटेक करने वाले अनुदीप दुरीशेट्टी ने पांचवें प्रयास में यूपीएससी टॉप किया।
अनुदीप दुरीशेट्टी, यूपीएससी टॉपर 2017
बंगलौर से बीटेक करने वालीं नंदीनी केआर चौथे प्रयास में टॉपर बनीं।
नंदीनी के आर, UPSC टॉपर 2016
दिल्‍ली की रहने वाली टीना डाबी ने पहले प्रयास में UPSC  टॉप की। श्रीराम लेडी कॉलेज से पढ़ाई की। 2021 में टीना की छोटी बहन रिया डाबी भी IAS बन गईं।
टीना डाबी, यूपीएससी टॉपर 2015
साल 2010 में यूपीएससी पास करके आईआरएस बनीं। फिर अपने चौथे प्रयास में यूपीएससी टॉपर बनीं। इन्‍होंने दिल्‍ली से पढ़ाई की।
इरा सिंघल, UPSC टॉपर 2014
हांगकांग से बैंक की नौकरी छोड़कर दूसरे प्रयास में यूपीएससी टॉपर बने। आईआईटी दिल्‍ली व आईआईएम लखनऊ से पढ़ाई की।
गौरव अग्रवाल, यूपीएससी टॉपर 2013
चौथे प्रयास में यूपीएससी टॉपर बनीं हरिता आईएएस से पहले आईपीएस बनने में सफल रही थी।
हरिता वी कुमार, यूपीएससी टॉपर 2012
तीसरे प्रयास में यूपीएससी टॉपर बनीं स्‍नेहा अग्रवाल ने एआईआईएमएस से एमबीबीएस की। सीबीएसई पीएमपी 2004 में भी टॉपर रहीं।
डॉ स्‍नेहा अग्रवाल, यूपीएससी टॉपर 2011
दिव्‍यादर्शिनी ने लॉ में स्‍नातक किया। तमिलनाडू के कॉलेज से पढ़ाई की। पहले प्रयास में प्री भी पास नहीं हुई। दूसरे प्रयास में टॉपर बनीं।
दिव्‍यादर्शिनी, यूपीएससी टॉपर 2010
पहले प्रयास में यूपीएससी टॉप करने वाले शाह फैजल डॉक्‍टर से सिविल सेवक बने। श्रीनगर के कॉलेज से एमबीबीएस की।
शाह फैजल, यूपीएससी टॉपर 2009
सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर नोएडा में जॉब करती थीं। आईआईटी रुड़की से इंजीनियरिंग की। जॉब छोड़कर यूपीएससी की तैयारी की थी।
शुभ्रा सक्‍सेना, यूपीएससी टॉपर 2008
डॉक्‍टर अपदा कार्तिक ने तीसरे प्रयास में यूपीएससी टॉप किया। कभी इन्‍हें विदेशों ने स्‍कॉल‍रशिप देने से इनकार कर दिया था।
अपदा कार्तिक, यूपीएससी टॉपर 2007
एनआईटी वारंगल से बीटेक करने वाले रेवू ने तीसरे प्रयास में यूपीएससी टॉप की।
मुत्याला राजू रेवू, यूपीएससी टॉपर 2006
तीसरे प्रयास में यूपीएससी टॉप करने वाली मोना परुथी ने दिल्‍ली के श्रीराम लेडी कॉलेज से स्‍नातक की। फिर अमेरिकन एक्‍सप्रेस के साथ काम किया।
मोना परुथी, यूपीएससी टॉपर 2005
चौथे प्रयास में टॉपर बने नागराजन ने बिटस पिलानी से बीटेक की डिग्री ली थी।
नागराजन, यूपीएससी टॉपर 2004
उत्‍कल वि‍श्‍वविद्यालय से एमबीए करने वाली रूपा मिश्रा पहले प्रयास में यूपीएससी टॉप की।
रूपा मिश्रा, यूपीएससी टॉपर 2003
अंकुर पहले प्रयास में UPSC टॉपर बने गए थे। आईआईटी दिल्‍ली स इंजीनियरिंग की। एमएनसी में अच्‍छे पैकेज की नौकरी छोड़कर यूपीएससी की तैयारी की थी।
अंकुर गर्ग, यूपीएससी टॉपर 2002
हिंदू कॉलेज दिल्‍ली से पढ़ाई करने वाले आलोक रंजन झा अपने तीसरे प्रयास में यूपीएससी टॉपर बने।
आलोक रंजन झा, यूपीएससी टॉपर 2001
विजया लक्ष्‍मी अफसरों वाले परिवार से है। इनके पिता, भाई, पति व भाभी सिविल सेवा में हैं।
विजया लक्ष्‍मी, यूपीएससी टॉपर 2000
पहले प्रयास में टॉपर बनने वाले सौरभ बाबू उत्‍तर प्रदेश से बीटेक की डिग्री हासिल की थी।
सौरभ बाबू, यूपीएससी टॉपर 1999
पंजाब की भावना गर्ग ने आईआईटी कानपुर से इंजीनियरिंग की। ट्रेनिंग के दौरान गोल्‍ड मेडल भी पाया।
भावना गर्ग, यूपीएससी टॉपर 1998
बिहार के देवेश कुमार ने कानपुर आईआईटी से इंजीनियरिंग की। ये हिमाचल प्रदेश कैडर में आईएएस बने।
देवेश कुमार, यूपीएससी टॉपर 1997
बिहार के रहने वाले सुनील कुमार बरनवाल ने गेल में जॉब करते हुए यूपीएससी की तैयारी शुरू की थी। दूसरे प्रयास में रैंक 1 पाई।
सुनील कुमार बरनवाल, यूपीएससी टॉपर 1996
साल 1994 में दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय से एमए किया। पहले प्रयास में 229वीं रैंक पाई। दूसरे प्रयास में टॉपर बने।
इकबाल धालिवाल, यूपीएससी टॉपर 1995
पहले प्रयास में यूपीएससी टॉप करने वाले आशुतोष जिंदल पंजाब के रहने वाले हैं। मणिपुर त्रिपुरा कैडर में आईएएस हैं।
आशुतोष जिंदल, यूपीएससी टॉपर 1994
श्रीवत्‍स कृष्णा की पहली पोस्टिंग एसडीएम दिल्‍ली के पद पर हुई। फिर इन्‍होंने चंद्रबाबू नायडू के साथ हैदराबाद के विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई।
श्रीवत्‍स कृष्णा यूपीएससी टॉपर1993
उत्‍तर प्रदेश के अनुराग श्रीवास्‍तव ने आईआईटी कानपुर से सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक किया।
अनुराग श्रीवास्‍तव, यूपीएससी टॉपर 1992
केरला के राजू नारायण 23 साल की उम्र में सिविल सेवक बन गए थे। कम्‍प्‍यूटर साइंस में मद्रास आईआईटी से इंजीनियरिंग की।
राजू नारायण स्‍वामी, यूपीएससी टॉपर 1991
आंध्र प्रदेश के वीवी लक्ष्‍मीनारायण एनआईटी वारंगल और आईआईटी मद्रास से पढ़ाई की। ये 25 की उम्र में आईपीएस बन गए थे।
वीवी लक्ष्‍मीनारायण यूपीएससी टॉपर 1990
उत्‍तर प्रदेश कैडर के आईएएस अधिकारी शशि प्रकाश गोयल,के पिता का निधन इसी साल अगस्‍त में हुआ।
शशि प्रकाश गोयल, यूपीएससी 1989
मूलरूप से बिहार के रहने वाले प्रशांत कुमार पश्चिम बंगाल कैडर में आईएएस बने। उत्‍तरी दीनाजपुर में डीएम भी रहे।
प्रशांत कुमार, यूपीएससी टॉपर 1988
बिहार कैडर के आईएएस अधिकारी आमिर सुभानी होम डिपारटमेंट में प्रींसिपल सचिव भी रहे।
आमिर सुभानी, यूपीएससी 1987 टॉपर
ओडिशा कैडर के आईएएस अधिकारी रहे डॉ हृषिकेश पांडा ने ऑस्‍ट्रेलिया से पीएचडी की थी।
डॉ हृषिकेश पांडा, यूपीएससी टॉप 1978
यूपी कैडर के IAS अधिकारी रहे जावेद उस्‍मानी ने अहमदाबाद IIM से MBA किया था। लंदन स्‍कूल ऑफ इकोनोमिक्‍स से MSc की डिग्री पाई।
जावेद उस्‍मानी, यूपीएससी टॉपर 1977
IFS अधिकारी भास्‍कर बालकृष्‍णन ने खड़गपुर व दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय से उच्‍च शिक्षा हासिल की। यूएसए से PHD की थी।
भास्‍कर बालकृष्‍णन, यूपीएसपी टॉपर 1974
पहले प्रयास में UPSCटॉप करने वाली निरुपमा राव साल 2009 से 2011 तक भारत की विदेश सचिव रहीं।   मराठावाड़ा विवि से  मास्‍टर डिग्री हासिल की।
निरुपमा मेनन राव, यूपीएससी 1973 टॉपर
आंध्र प्रदेश कैडर में आईएएस रहे डी सुब्‍बराव ने आईआईटी कानुपर से एमएससी की डिग्री हासिल की थी। ये आरबीआई के 22वें गवर्नर भी बने।
डी सुब्‍बाराव, यूपीएससी 1972 टॉपर