Tap to Read ➤

यूपी में वोटशेयर का घमासान

2022 के चुनाव में वोटशेयर पलट सकता है बाजी
2017 में वोट शेयर के मामले में भाजपा ने बनाया था रिकॉर्ड
1977 के बाद से पहली बार किसी पार्टी को मिले थे 39.67 वोट

2017 में भाजपा को 403 में से 312 सीटें मिलीं
भाजपा का वोटशेयर 39.67 प्रतिशत रहा, वहीं कांग्रेस, सपा और बसपा का कुल वोटशेयर 50 फीसदी से अधिक था
कम वोटशेयर के कारण ध्‍वस्त हुआ था अखिलेश यादव का किला
2012 में सपा को मिला था 29.15 वोट प्रतिशत, जो 2017 में घट गया
2007 के बाद यही हाल हुआ था मायावती का
2007 में बसपा को मिले 30 प्रतिशत वोट जो 2012 में घट कर 25 प्रतिशत रह गया
इसी तरह 2002 में सपा का वोट प्रतिशत था 25 जो 2007 में नहीं बढ़ा
2022 में सभी दलों के लिए चुनौती होगा भाजपा के वोट बैंक पर कब्‍जा करना वहीं भाजपा के लिए चुनौती होगा वोटबैंक बरकरार रखना
डुमरियागंज, मीरापुर, श्रावस्ती, मुहम्मदाबाद-गोहना, रामपुर-मनिहारन, भदोही, पट्टी, टांडा समेत 15 सीटों पर करना होगा प्रदर्शन जोरदार
कुंडा, सौर, जसवंतनगर, रामपुर, करहल, बाबागंज, रसरा समेत 91 सीटों पर होगी मजबूत दावेदारी की भाजपा को होगी दरकार...
अगर सत्ता को रखना है बरकरार
और भी हैं उत्तर प्रदेश पर चुनावी समीक्षा


बने रहिये वनइंडिया हिन्दी के साथ...
Oneindia Hindi