Tap to Read ➤

Two-wheeler इंश्योरेंस: क्या आप इससे संबंधित जरूरी बातें जानते हैं ?

हर उम्र के लोगों में Two-wheeler की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है। एक से एक बाइक बाजार में आ रही हैं। अगर आपने जरूरी इंश्योरेंस लेने में चूक की तो आपकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं।
बाइक-स्कूटर-स्कूटी का बीमा सिर्फ आपको वित्तीय सुरक्षा नहीं देता, यह किसी भी दुर्घटना की स्थिति में आपको, आपके परिवार को और थर्ड पार्टी को कानूनी और वित्तीय सुरक्षा भी देता कराता है।
बाइक इंश्योरेंस
Two-wheeler इंश्योरेंस
ऑटोमोबाइल कंपनियों ने महंगी स्पोर्ट्स बाइक से लेकर, सामान्य उपभोक्ताओं की जरूरतों के मुताबिक अनेकों टू-व्हीलर मॉडल बाजार में उतार रखे हैं।
मोटर व्हीकल एक्ट के तहत आप टू-व्हीलर खरीदने के साथ ही इंश्योरेंस कराने के लिए भी कानूनी तौर पर बाध्य हैं। निश्चित समय पर रिन्यूअल कराना भी आवश्यक है।
बाइक इंश्योरेंस
क्या आपको पता है कि आपकी टू-व्हीलर इंश्योरेंस पॉलिसी को आपकी जरूरतों के मुताबिक customized किया जा सकता है। आप उसमें कुछ Extra Cover ले सकते हैं।
बाइक इंश्योरेंस
टू-व्हीलर इंश्योरेंस पॉलिसी इंजन की क्षमता, वाहन के निर्माण का साल, मॉडल और लोकेशन के आधार पर तय होती है। आप add-on कवर की लिस्ट देख सकते हैं और दूसरी कंपनियों से ऑनलाइन तुलना भी कर सकते हैं।
Two-wheeler इंश्योरेंस
अगर आपके टू-व्हीलर को कोई नुकसान होता है तो आपको कैशलेस क्लेम मिलेगा। आपको औपचारिकताएं पूरी कर सिर्फ वाहन को गराज भेजना है। जो भी चीजें बीमा में कवर होगी, उसके आपको एक पैसे भी नहीं देने हैं।
बाइक इंश्योरेंस
अगर आपकी टू-व्हीलर की Key गुम हो जाती है या चोरी चली जाती है और आपकी इंश्योरेंस में वह कवर है, तो नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करेगी।
बाइक इंश्योरेंस
बाइक इंश्योरेंस
क्या आप जानते हैं बेसिक इंश्योरिंस प्लान में इंजन कवर नहीं होता। इसलिए, जब इंश्योरेंस खरीद रहे हों तो add-on कवर में 'बाइक इंजन प्रोटेक्ट' जरूर शामिल करें।
क्या आप जानते हैं कि इंश्योरेंस पॉलिसी आपको कानूनी सुरक्षा देती है। अगर कोई हादसा हो जाता है और थर्ड पार्टी के साथ कोई विवाद होता है, तो वाहन मालिक को सुरक्षा मिलती है।
बाइक इंश्योरेंस
ऐसे मामलों में थर्ड पार्टी इंश्योरेंस पॉलिसी आपके लिए कानूनी सुरक्षा शील्ड की तरह काम करती है।
बाइक इंश्योरेंस
बाइक इंश्योरेंस
कंपनी आपकी टू-व्हीलर इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत वाहन को हुए नुकसान का कवर सिर्फ भारत में ही देती है।
आटे का फेसपैक
आगे देखिए