Tap to Read ➤

Tourist Places in jaipur : जयपुर जाए तो इन जगहों पर जरूर घूमें

जयपुर की स्थापना 18 नवंबर 1727 को महाराजा सवाई जयसिंह (द्वितीय) ने की थी। 295वें स्‍थापना दिवस पर जानिए घूमने लायक जगहें।
vishwanath saini
(1 जंतर मंतर) जयपुर में बना जंतर मंतर यूनेस्को के 'विश्व धरोहर सूची' में शामिल है। इस खगोलीय वेधशाला का निर्माण सवाई जयसिंह ने करवाया था।
(2 हवा महल) जयपुर में हवा महल का निर्माण सन 1799 में महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने करवाया था। 'राजमुकुट' के आकार के हवामहल का डिजाइन वास्तुकार लाल चंद उस्ता ने बनाया था।
(3 नाहरगढ़ किला) जयपुर में अरावली पर्वतमाला पर सवाई राजा जयसिंह द्वितीय ने सन 1734 में नाहरगढ़ किले का निर्माण करवाया था। यह आमेर की सुरक्षा करने के लिहाज से बनाया गया था।
(4 जयगढ़ दुर्ग) अरावली पर्वतमाला पर जयगढ़ दुर्ग है। जयगढ़ का निर्माण निर्माण जय सिंह द्वितीय ने करवाया। यहां आकर दुनिया की सबसे बड़ी तोप देख सकते हैं।
(5 बिरला मंदिर ) जयपुर में बिरला मंदिर मोती डूंगरी के पहाड़ के नीचे स्थित है। यह जयपुर समेत आसपास के क्षेत्रों के श्रद्धालुओं का आस्था का केंद्र है।
(6 पन्‍ना मीना का कुंड ) आमेर किले के पास स्थित 'पन्ना मीना का कुंड' करीब 200 फीट गहरा है। 8 मंजिला बावड़ी में करीब 1800 सीढ़ियां हैं। यह लोगों का पसंदीदा पिकनिक स्पॉट है।
( 7 सिटी पैलेस ) पुराने जयपुर के बीचोंबीच स्थित सिटी पैलेस शाही निवास है। भूरे संगमरमर के स्तंभों पर टिके सिटी पैलेस का निर्माण महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय ने करवाया।
(8 अल्बर्ट हॉल संग्रहालय) जयपुर के रामनिवास बाग में स्थित अल्बर्ट हॉल राजस्‍थान का सबसे पुराना संग्रहालय है। भारत-अरबी शैली में बनाए गए अल्बर्ट हॉल की बिल्डिंग भी देखने लायक है।
(9 अक्षरधाम मंदिर) जयपुर के वैशाली नगर में स्थित अक्षरधाम मंदिर भगवान नारायण को समर्पित है। जयपुर का अक्षरधाम मंदिर अपनी सुंदर वास्तुकला, शानदार मूर्तियों और नक्काशी के लिए जाना जाता है।
(10 जलमहल ) जयपुर में मानसागर झील के बीच बना जलमहल ऐतिहासिक महल है। झील के बीचों-बीच होने के कारण जलमहल को 'आई बॉल' भी कहा जाता है।
(11 आमेर दुर्ग) आमेर दुर्ग जयपुर के आमेर क्षेत्र में एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित एक पर्वतीय दुर्ग है। यह जयपुर के प्रमुख पर्यटन स्‍थलों में से एक है।
(12 गलताजी) गालव ऋषि की तपोस्‍थली गलताजी जयपुर में प्राचीन तीर्थस्‍थल है। यहां पर बंदर खूब पाए जाते हैं। ऐसे में इसे मंकी वैली भी कहते हैं। गलता में पवित्र कुंड है।
(13 हाथी गांव) जयपुर का हाथी गांव देश में पहला और दुनिया में तीसरा है। 100 एकड़ में फैले हाथी गांव में हजारों सैलानी आते हैं। सैलानी हाथियों के साथ मस्ती करते हैं।
(15 गेटोर की छतरियां ) जयपुर में गेटोर की छतरियां नाहरगढ़ किले की तलहटी में बनी हैं।
(16 गोविंद देवजी) जयपुर में भगवान कृष्ण का सबसे प्रसिद्ध मंदिर गोविंद देवजी है। यह चन्द्र महल के पूर्व में बने जय निवास बगीचे के मध्य अहाते में स्थित है।
(17 बीएम बिड़ला तारामंडल) बीएम बिड़ला तारामंडल जयपुर के केंद्र में प्रसिद्ध स्टेच्यू सर्किल के पास स्थित है। यहां आकाशगंगा और सितारों के अनजाने तथ्यों से लोगों को रुबरु कराता है।
(18 वैक्‍स म्‍यूजियम ) नाहरगढ़ किले में स्थित वैक्स म्यूजियम जयपुर में एपीजे अब्दुल कलाम, कल्पना चावला, मदर टेरेसा, दलाई लामा, महात्मा गांधी, अमिताभ बच्चन, सचिन तेंदुलकर आदि की मूर्तियां है।