Tap to Read ➤

Snake Venom: सांप के जहर से बनी Medicine

आपको जानकर हैरानी हो सकती है लेकिन यह सच है सांप का जो जहर जानलेवा होता है, उसी से जीवनरक्षक दवाएं बनती हैं।
सांप के जहर का एक कतरा इंसान की जान ले सकता है। लेकिन खोजी वैज्ञानिकों ने इसमें भी जान बचाने की संभावना देखी।
सांप के जहर से दवाई बनाने की कहानी अमेरिका से शुरू होती है जहां केला के बगानों में मजदूर सांप काटने की वजह से जान गंवाते थे।
रिसर्चरों ने पाया कि सांप काटने के बाद ब्लड प्रेशर बहुत लो हो जाता था जिससे मजदूरों की मौत होती थी।
यहीं से खोज होते-होते Bothrops Jararaca नाम के सांप के जहर से दवाई बनाई गई।
इस दवाई का नाम Captopril रखा गया। यह दवा हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को दी जाती है।
इस दवाई का नाम Captopril रखा गया। यह दवा हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को दी जाती है।
Captopril नसों को सिकुड़ने से रोकता है और फैलने में मदद करता है जिससे ब्लड प्रेशर लो हो जाता है।
Captopril सांप के जहर से बनी पहली दवा है जिसका उपयोग बहुत होता है।
अमेरिका में ही एक और सांप pygmy rattlesnake जब काटता है तो ब्लड क्लॉटिंग को रोक देता है।
ब्लड क्लॉटिंग नहीं होने से खून बहुत बहता है जिससे मौत हो सकती है। यहीं से दूसरी दवा का आइडिया खोजकर्ताओं को मिला।
इसके जहर से eptifibatide नाम की दवा बनाई गई।
यह दवा ब्लड क्लॉटिंग को रोकता है जिससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक से मरीज का बचाव होता है।
इसी तरह की tirofiban दवा saw scaled viper के जहर से बनाई गई है।
सांप के जहर से बनाई गई ज्यादातर दवाइयां हृदयरोग में काम आती हैं।
ईस्टर्न ग्रीन मांबा के जहर से cenderitide नाम की दवा दिल के मरीजों के इलाज के लिए बनाई गई है।
फ्रांस में Black Mamba के जहर से पेनकिलर बनाने पर काम हुआ है जिसको मॉर्फिन से ज्यादा ताकतवर पाया गया है।
जहरीले सांप