Tap to Read ➤

Ritika Jindal SDM Mandi : 22 की उम्र में IAS बनने की पूरी कहानी

रितिका जिंदल देश के यंगेस्‍ट आईएएस अधिकारियों में से एक हैं।
vishwanath saini
रितिका जिंदल हिमाचल प्रदेश कैडर में पोस्‍टेड हैं।
यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा 2018 में 88वीं रैंक पाई।
हिमाचल के मंडी में एसडीएम रहते रितिका ने इंटरव्‍यू में अपनी सक्‍सेस स्‍टोरी शेयर की।
यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा 2018 में 88वीं रैंक पाई।
रितिका आईएएस अधिकारी बनीं तब ये महज 22 साल की थीं।
रितिका जिंदल पंजाब के मोगा की रहने वाली हैं।
12वीं कक्षा में रितिका ने उत्‍तर भारत में सीबीएसई बोर्ड परीक्षा में टॉप किया।
दिल्‍ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से 95 फीसदी अंकों के साथ स्‍नातक किया।
रितिका के पिता को फेफड़ों का कैंसर था।
बीमार पिता की देखभाल के साथ साथ रितिका ने यूपीएससी की तैयारी भी जारी रखी।
पहले प्रयास में रितिका यूपीएससी परीक्षा पास नहीं कर पाई थी। फिर भी हिम्‍मत नहीं हारी।
रितिका को अपने दूसरे प्रयास में सफल हुईं।
LBSNAA में ट्रेनिंग पर थी तब 2 माह के अंतराल में माता-पिता की बीमारी से मौत हो गई थी।