Tap to Read ➤

Richest Temple in India: जानिए भारत के सबसे अमीर मंदिरों की कमाई

भारत में 500, हजार से अधिक मंदिर हैं। भारत में प्राचीन मंदिर के प्रति भक्‍तों में इतनी आस्‍था है कि वो श्रृद्धा में सोना, चांदी और लाखों रुपये दान करते हैं। जानिए भारत के अमीर मंदिर कौन से हैं।
bhavna pandey
केरल के तिरुवंतपुरम में स्थित पद्मनाभ स्वामी मंदिर देश का  सबसे अमीर मंदिर है। मंदिर के गर्भग्रह में भगवान विष्‍णु की सोने की मूर्ति स्‍थापित है जिसकी कीमत 500 करोड़ रुपये है।
पद्मनाभ स्वामी मंदिर की संपत्ति 20 अरब डॉलर है। रिपोर्ट के अनुसार इस मंदिर की औसत मासिक आय 2.5 से 3 करोड़ रुपए है।
दूसरे नंबर पर आंध्र प्रदेश का तिरुपति बाला जी मंदिर है। इस मंदिर में हर साल भक्‍त दान में 600 करोड़ रुपये हुंडी में डाल जाते हैं। वेंकटेश्‍वर भगवान के इस मंदिर का 2010 में 1175 केजी सोना एसबीआई में जमा था
तीसरे स्‍थान पर महाराष्‍ट्र के शिरडी में स्थित सांईबाबा मंदिर है। मंदिर के बैंक अकांउट में 380 किलो सोना 4,428 किलो चांदी के अलावा विदेश मुद्रा और लगभग 1,800 करोड़ रुपये हैं। एक अनजान भक्‍त ने 2017 में मंदिर में 12 किलो सोना दान किया था।
चौथे नंबर पर जम्‍मू कश्‍मीर में स्थित वैष्‍णो देवी मंदिर है। शक्ति पीठों में शामिल  इस मंदिर की हर साल की कमाई 500 करोड़  है।
पांचवे नंबर पर मुंबई का गणेश भगवान का सिद्धिविनायक मंदिर है। मंदिर में एक व्‍यापारी ने मंदिर को 3.7 किलोग्राम सोने से कोट करवाने के लिए सोना दान किया था। इस मंदिर की सालाना आय 125 करोड़ रुपये है।
छठे नंबर पर गुजरात का सोमनाथ  मंदिर है। यहां 200 7 में  सोना चांदी के लिए लूट हुई लेकिन आज भी इस मंदिर की गिनती देश के अमीर मंदिरों में की जाती  है। 12 ज्‍योतिर्लिंग मंदिरों में एक इस मंदिर में हर साल करोड़ों रुपये का भक्‍त चढ़ावा चढ़ाते हैं।
ओडिशा में स्थित  जगन्‍नाथ पुरी मंदिर भारत के सबसे अमीर मंदिरों में एक है। इस मंदिर में लगभग 100‍ किलो सोना-चांदी होगा। एक बार यूरोप के एक भक्‍त ने इस मंदिर को 1.72 करोड़ रुपए दान किए थे। ऐसे ही हर साल मंदिर को करोड़ों दान रुपये दान के रूप में आते हैं।