Tap to Read ➤

295 साल का हुआ जयपुर, स्थापना दिवस पर जानिए पूरा इतिहास

जयपुर शहर का निर्माण तत्कालीन राजा सवाई जयसिंह ने 1727 में करवाया था।
Kamlesh Keshote
जयपुर को पिंक सिटी के नाम से भी जाना जाता है। इसे भारत का पेरिस भी कहा जाता है।
इसे गुलाबी शहर बनाने के लिए परकोटा क्षेत्र के लोगों के घरों की पुताई गुलाबी रंग से होती थी।
प्रिंस ऑफ वेल्स के जयपुर आगमन से पहले शहर को गुलाबी रंग से पोता गया था। तभी से इसे गुलाबी नगरी के नाम से जाना जाने लगा।
राजस्थान की राजधानी जयपुर अपनी संस्कृति इतिहास और वास्तुकला के लिए जाना जाता है।
अरावली पर्वत श्रृंखला से घिरा हुआ जयपुर शहर अपने महलों और पुरानी हवेलियों के साथ ऐतिहासिक स्मारकों के लिए अलग पहचान रखता है।
जयपुर शहर को यूनेस्को ने जुलाई 2019 में वर्ल्ड हेरिटेज सिटी का दर्जा दिया था। जयपुर दुनिया का अकेला शहर है। जिसके पास यूनेस्को वर्ल्ड हैरिटेज साइट के तीन ख़िताब मौजूद है।
यहां घूमने के लिए हर साल देश विदेश से लाखों पर्यटक आते हैं।
जयपुर शहर की सुरक्षा के लिए नगर की चारों दिशाओं में किले बनवाए गए थे।
शहर का निर्माण बंगाली वास्तुकार विद्याधर भट्टाचार्य ने किया था। निर्माण के दौरान वास्तु के हिसाब से इस शहर को चौड़ी सड़कों के साथ बसाया गया।